Ind vs Eng : पांच साल बाद वनडे सीरीज में फिर से कब्ज़ा जमाना चाहेगा भारत

Ind vs Eng : पांच साल बाद वनडे सीरीज में फिर से कब्ज़ा जमाना चाहेगा भारत

Siddharth Rai | Publish: Jul, 13 2018 05:40:19 PM (IST) क्रिकेट

इंग्लैंड के खिलाफ पहले मैच में एक तरफा जीत के बाद भारतीय टीम की नजरें शनिवार को होने वाले दूसरे वनडे में जीत हासिल कर तीन मैचों की सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त लेने पर हैं। दोनों टीमें दूसरे मैच में लॉर्ड्स मैदान पर आमने-सामने होंगी।

नई दिल्ली। मेजबान इंग्लैंड के खिलाफ पहले मैच में एक तरफा जीत के बाद भारतीय टीम की नजरें शनिवार को होने वाले दूसरे वनडे में जीत हासिल कर तीन मैचों की सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त लेने पर हैं। दोनों टीमें दूसरे मैच में लॉर्ड्स मैदान पर आमने-सामने होंगी।

कुलदीप की फिरकी में फंसा इंग्लैंड
इंग्लैंड पहले मैच में कुलदीप यादव, रोहित शर्मा और भारतीय कप्तान विराट कोहली की तिगड़ी के सामने पस्त हो गई थी। पहले कुलदीप ने छह विकेट लेकर इंग्लैंड को बड़ा स्कोर बनाने से महरूम रखा और फिर रोहित की नाबाद 137 तथा कोहली की 75 रनों की पारी के दम पर भारत ने 269 रनों के लक्ष्य को 40.1 ओवर में हासिल कर लिया। गेंदबाजी में दूसरे मैच में कुलदीप एक बार फिर मेजबान टीम के लिए खतरा रहेंगे। कुलदीप ने इससे पहले टी-20 मैच में भी इंग्लैंड के बल्लेबाजों को खासा परेशान किया था। उनसे निपटना इंग्लैंड के बल्लेबाजों के लिए चुनौती ही रहेगा।

भारतीय स्पिनरों को पढ़ना मुश्किल
वहीं कुलदीप के अलावा उनके साथ युजवेंद्र चहल भी मेजबानों के लिए परेशानी खड़ी कर सकते हैं। स्पिन में भारत मजबूत हैं लेकिन पहले मैच में उसके तेज गेंदबाज ज्यादा प्रभावी नहीं रहे थे। उमेश ने जरूर दो विकेट लिए तो लेकिन वो विकेट आखिरी ओवरों में आए थे। शुरुआती ओवरों में भुवनेश्वर कुमार की कमी कोहली को खली थी। पदार्पण करने वाले सिद्धार्थ कौल काफी महंगे साबित हुए थे। यह एक श्रेत्र है जो भारत के लिए पेरशानी का सबब है। बल्लेबाजी टीम की ताकत है और उसके लगभग सभी बल्लेबाज फॉर्म में हैं। रोहित और कोहली ने अपनी फॉर्म का परिचय दे दिया है। शिखर धवन ने भी पहले मैच में रोहित के साथ मिलकर टीम को अच्छी शुरुआत दी थी। वहीं लोकेश राहुल, महेंद्र सिंह धोनी, हार्दिक पांड्या ने बीती टी-20 सीरीज में अच्छा प्रदर्शन किया था।

सीरीज बचने उतरेगा इंग्लैंड
वहीं अगर इंग्लैंड की बात की जाए तो उसको स्पिन के खिलाफ परेशानी से बाहर निकलना होगा। उसके पास ऐसे बल्लेबाज हैं जो बड़ी और तूफानी पारियां खेल सकते हैं लेकिन स्पिन के सामने वो भी विफल रहे हैं। जेसन रॉय, जॉनी बेयर्सटो, जोस बटलर, कप्तान इयोन मोर्गन, जोए रूट, बेन स्टोक्स का बल्ला शांत रहा है। यह सभी बल्लेबाज ऐसे हैं जिन्होंने अपनी काबिलियत को साबित किया है। इन सभी को अपने खेल में सुधार करना होगा। पहले मैच में एलेक्स हेल्स नहीं खेले थे। दूसरे मैच में वो खेलते हैं या नहीं इस बात का पता मैच के दिन ही चलेगा। इंग्लैंड की कोशिश इस मैच में वापसी करने की होगी। इसके लिए उसे सिर्फ अपनी बल्लेबाजी को मजबूत करने की जरूरत नहीं बल्कि गेंदबाजी पर ध्यान देना होगा। मार्क वुड, डेविड विले, लिया प्लंकट और स्टोक्स को जिम्मेदारी लेनी होगी।

टीमें :

भारत : विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, रोहित शर्मा, लोकेश राहुल, महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), दिनेश कार्तिक, सुरेश रैना, हार्दिक पांड्या, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल,श्रेयस अय्यर, सिद्धार्थ कौल, अक्षर पटेल, उमेश यादव, शर्दूल ठाकुर और भुवनेश्वर कुमार।

इंग्लैंड : इयोन मोर्गन (कप्तान), जेसन रॉय, जॉनी बेयर्सटो, जोस बटलर (विकेटकीपर), मोइन अली, जोए रूट, जैक बाल, टॉम कुरैन, एलेक्स हेल्स, लियाम प्लंकट, बेन स्टोक्स, आदिल राशिद, डेविड विले, मार्क वुड।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned