महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास पर गौतम गंभीर ने इमोशनल होकर नहीं, प्रैक्टिकल होकर सोचने को कहा

महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास पर गौतम गंभीर ने इमोशनल होकर नहीं, प्रैक्टिकल होकर सोचने को कहा

Mazkoor Alam | Updated: 19 Jul 2019, 05:30:56 PM (IST) क्रिकेट

  • Gautam Gambhir ने युवा विकेटकीपर बल्लेबाज को चुनने की दी सलाह
  • क्रिकेट विश्व कप खत्म होने के बाद से ही धोनी के संन्यास पर लग रही है अटकलें

नई दिल्ली : भारतीय क्रिकेट टीम ( Indian cricket team ) के बाएं हाथ के पूर्व सलामी बल्लेबाज और भारतीय जनता पार्टी सांसद गौतम गंभीर ( Gautam Gambhir ) ने भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से महेंद्र सिंह धोनी ( Mahendra Singh Dhoni ) के संन्यास पर चल रही चर्चा में अपना विचार रखा। उन्होंने इशारों-इशारों में महेंद्र सिंह धोनी पर निशाना साधते हुए उन्हें संन्यास लेने की सलाह दे डाली। गौतम गंभीर ने कहा कि आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2019 ( ICC cricket world cup 2019 ) के बाद से ही इस बात पर चर्चा चल रही है कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से महेंद्र सिंह धोनी कब संन्यास लेंगे। इस बारे में उनका मानना है कि हमें इमोशनल होकर नहीं, बल्कि प्रैक्टिकल होकर सोचना चाहिए।

इंग्लिश ऑलराउंडर बेन स्टोक्स को मिल सकता है न्यूजीलैंड का सबसे बड़ा अवॉर्ड

गंभीर ने भविष्य की टीम पर जोर दिया

गौतम गंभीर ने कहा कि अब यह जरूरी है कि भविष्य के बारे में सोचा जाए। उन्होंने इसके लिए जब महेंद्र सिंह धोनी कप्तान थे, तब का एक उदाहरण दिया। गंभीर ने कहा कि उन्हें याद है कि धोनी ने ऑस्ट्रेलिया में सीबी सीरीज से पहले कहा था कि गौतम गंभीर, सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग इस सीरीज में नहीं खेल सकते, क्योंकि ऑस्ट्रेलिया के मैदान बड़े हैं।

चोटिल होकर एशेज सीरीज से बाहर हुए जोफ्रा आर्चर

युवा क्रिकेटरों को मिले मौका

गौतम गंभीर ने आगे कहा कि उनका मानना है कि अगले विश्व कप के लिए युवा क्रिकेटरों को टीम में जगह दी जानी चाहिए और इस पर प्रैक्टिकल होकर फैसला लेना चाहिए, न कि इमोशनल होकर। हाल में यह खबर आई थी कि महेंद्र सिंह धोनी की भूमिका टीम में बदल जाएगी। वह टीम इंडिया के लिए विकेटकीपर बल्लेबाज तैयार करेंगे। इस पर राय रखते हुए गौतम गंभीर ने कहा कि 2023 विश्व कप के लिए भारत को नए विकेटकीपर बल्लेबाज को तैयार करने के लिए युवा विकेटकीपरों को खेलने का मौका देना चाहिए। चाहे वह ऋषभ पंत हो, संजू सैमसन हो या फिर ईशान किशन हों। इन्हें मौका मिलना चाहिए और देखना चाहिए कि किसमें कितना दम है। सभी को डेढ़ साल का समय मिलना चाहिए और अगर अच्छा प्रदर्शन न करें तो दूसरे को मौका दिया जाना चाहिए।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned