World Cup 2011 : गौतम गंभीर बोले- विश्व कप जीतना थी जिम्मेदारी, ज्यादा विकल्प नुकसानदेह

भारतीय क्रिकेट टीम को विश्व कप जीते 10 साल हो चुके हैं।
गौतम गंभीर ने कहा कि 2011 में हमने ऐसा कुछ नहीं किया जो हमें नहीं करना चाहिए था।

By: Shaitan Prajapat

Published: 02 Apr 2021, 09:59 AM IST

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम को विश्व कप जीते 10 साल हो चुके हैं। साल 2011 में भारत ने श्रीलंका को हराकर विश्व कप आज ही के दिन यानी 2 अप्रैल को अपने नाम किया था। मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए फाइनल में गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) के 97 और कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) के नाबाद 91 रनों की बदौलत भारत ने इस मैच को 6 विकेट से जीता था। इस खिताबी जीत में अहम भूमिका निभाने वाले बाएं हाथ के बल्लेबाज गौतम गंभीर का मानना है कि उस जीत को अब लंबा समय हो चुका है और लोगों को उसके बारे में सोचना बंद करना चाहिए।

जल्द ही अगला विश्व कप जीतना चाहिए
एक इंटरव्यू में विश्व कप जीत पर बात करते हुए गंभीर ने कहा कि उनको लगता है कि यह कल की बात है। इसे 10 साल बीत गए है। मैं पीछे मुड़कर देखने वाला इंसान नहीं हूं। हालांकि यह बहुत ही गौरवपूर्ण लम्हा था। अब आगे बढ़ने का समय है। भारत ने इस ऐतिहासिक जीत के बाद दो वनडे विश्व कप खेले है, लेकिन एक में भी फाइनल तक नहीं पहुंच सके। समय को देते हुए हमको जल्द ही अगला विश्व कप जीतना चाहिए।

 

यह भी पढ़ें : सचिन तेंदुलकर ने 15 साल की उम्र में बनाया था अपना पहला CV, जानिए सीवी की दिलचस्प बातें

विश्व कप जीतना थी जिम्मेदारी
गंभीर ने आगे कहा कि हमने 2011 में वर्ल्ड कप जीतकर कोई अहसान नहीं किया। हमें विश्व कप में खेलने के लिए चुना गया था और हमने यह खिताब जीता था। टूर्नामेंट में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया और ऐसा उन्होंने अपनी पेशेवर जिम्मेदारी के तहत किया। 39 साल के गंभीर का कहना है कि जब हमें चुना गया तो हमें सिर्फ खेलने के लिए नहीं चुना गया, हम जीतने के लिए उतरे थे।

ज्यादा विकल्प नुकसानदेह
विराट कोहली की अगुवाई वाली टीम इंडिया में अधिक विकल्प को लेकर बात करते हुए गंभीर ने कहा ज्यादा विकल्प होना भी कभी-कभी नुकसान का कारण बन सकता है। उन्होंने कहा टीम में जरूरत से ज्यादा बदलाव अच्छा नहीं होता है। अगर 2011 विश्व कप से पहले भारतीय टीम में ज्यादा खिलाड़ियों को आजमाया होता हमारे स्थान पर तीन से चार दूसरे खिलाड़ी होते। इन खिलाड़ियों को आजमाना या ज्यादा विकल्प के तौर पर देखना एक सामान्य बात है। इसके साथ ही उन्होंने कहा विश्व कप से पहले करीब 6 महीने या 1 साल के लिए आपके पास करीब 16 खिलाड़ी ऐसे होने चाहिए जो आपकी टीम में किसी भी क्रम में खेले तो आपकी टीम को मजबूती दे और सफलता हासिल हो।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned