दिल्ली डेयरडेविल्स और अपने बुरे प्रदर्शन पर गौतम गंभीर ने बेबाकी से दिया ये बयान

गौतम गंभीर ने अपने और टीम (दिल्ली डेयर डेविल्स) के खराब प्रदर्शन पर बड़े ही बेबाकी से अपनी राय जाहिर की है।

By:

Published: 23 May 2018, 06:52 PM IST

नई दिल्ली। अपनी बेबाक टिप्पणी के लिए चर्चित भारतीय बल्लेबाज गौतम गंभीर ने आईपीएल में कप्तानी छोडऩे, खराब फार्म और अंतिम एकादश से बाहर किए जाने जैसे अपने कड़वे अनुभवों के बाद स्पष्ट कहा है कि आईपीएल-11 उनके करियर का सबसे निराशाजनक सत्र रहा है। आईपीएल-11 में कोलकाता नाइटराइडर्स ने उसे दो बार चैंपियन बनाने वाले गंभीर को रिटेन करने के बाद नीलामी तक में नहीं खरीदा तो वहीं टूर्नामेंट की फिसड्डी टीम दिल्ली की कमान मिलने के बावजूद गंभीर उम्मीदों पर खरे नहीं उतर सके। दिल्ली के खराब प्रदर्शन के कारण टीम 14 मैचों में 10 अंक जीतकर आखिरी आठवें नंबर पर रही।

बीच आईपीएल में छोड़ी थी टीम की कमान-
गंभीर ने टीम के खराब प्रदर्शन के बाद बीच में ही अपनी कप्तानी को छोड़ दिया जिसके बाद श्रेयस अय्यर को टीम का नेतृत्व सौंपा गया। टूर्नामेंट में गंभीर खराब कप्तानी ही नहीं बल्कि बेहद निराशाजनक प्रदर्शन के कारण भी आलोचनाओं का शिकार बने और टीम का नेतृत्व बदलते ही दो बार का चैंपियन कप्तान एकादश तक से बाहर हो गया।

अंतिम एकादश में नहीं मिला मौका-
36 वर्षीय क्रिकेटर ने अंग्रेजी दैनिक में लिखे अपने कॉलम में साफ शब्दों में कहा कि आईपीएल-2018 उनके करियर का सबसे निराशाजनक संस्करण रहा है। गंभीर ने लिखा कि कई लोग पूछते हैं कि कप्तानी छोडऩे के बाद मैंने खेला क्यों नहीं, लेकिन मेरा जवाब साफ है कि जब मुझे एकादश में चुना ही नहीं गया तो मैं खेलता कैसे।

रबादा और मौरिस का चोटिल होना अहम-
लंबे समय तक भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा रहे अनुभवी बल्लेबाज ने कहा कि मुझसे लोग कहते हैं कि मैंने कहां गलती की, जवाब साफ है कि हमारे मुख्य खिलाड़ी कैगिसो रबादा और क्रिस मौरिस चोटिल हो गये, टीम को सही संयोजन नहीं मिला और कुछ खिलाड़ी अच्छा नहीं कर रहे थे। हमारी टीम अहम मौकों पर ही खराब खेल रही थी और दबाव झेलने में सक्षम नहीं थी।

चुनाव लड़ने पर ये बोले गंभीर -
उन्होंने कहा कि मैं हमेशा मानता हूं कि गेंदबाज आपको मैच जितवाते हैं लेकिन हमारे पास अच्छे गेंदबाजों की कमी थी। गंभीर को टूर्नामेंट में केवल छह मैचों में खेलने का मौका मिला। वह कप्तानी से हटने के तुरंत बाद एकादश से भी बाहर कर दिये गये थे। गंभीर ने इन मैचों में 17 के औसत से मात्र 85 रन ही बनाये जिसमें उनकी एक बड़ी पारी 55 रन थी। दिल्ली के गंभीर ने क्रिकेट से संन्यास की अटकलों को भी खारिज किया है। उन्होंने कहा कि कई लोग अटकलें लगा रहे हैं कि मैं क्रिकेट से संन्यास ले रहा हूं और डीडीसीए के चुनावों लडूंगा। दोनों ही बातें गलत हैं। मैं अब भी अपनी टीमों के लिये खेलना चाहता हूं।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned