ICC Cricket World Cup 2011: फाइनल मैच में युवराज सिंह ने DRS की जिद कर बचाया था धोनी को बड़ी गलती करने से

ICC World Cup 2011 का फाइनल मुकाबला 2 अप्रेल को वानखेडे स्टेडियम में भारत और श्रीलंका के बीच हुआ था। इस मैच में भारत ने श्रीलंका को 6 विकेट से हराकर वर्ल्ड कप अपने नाम किया था।

By: Mahendra Yadav

Published: 02 Apr 2021, 09:08 AM IST

2 अप्रेल का दिन भारतीय क्रिकेट के लिए काफी महत्वपूर्ण है। इसी दिन 28 साल बाद टीम इंडिया ने महेन्द्र सिंह धोनी की कप्तानी में वर्ल्ड कप जीता था। ICC World Cup 2011 का फाइनल मुकाबला 2 अप्रेल को वानखेडे स्टेडियम में भारत और श्रीलंका के बीच हुआ था। इस मैच में भारत ने श्रीलंका को 6 विकेट से हराकर वर्ल्ड कप अपने नाम किया था। भारत को मैच के आखिर में जीत के लिए 11 गेंदों पर 4 रन चाहिए थे। तब महेन्द्र सिंह धोनी वर्ल्ड कप का विनिंग सिक्स लगाया था। बता दें कि इस विश्व कप के सेमिफाइनल में भारत ने पाकिस्तान को हराया था। 28 साल बाद वर्ल्ड कप जीतने पर पूरे देश में जश्न जैसा माहौल था। इस मैच से जुड़ी यादें आज भी फैंस के दिलों में ताजा हैं।

जब युवराज ने बचाया धोनी को गलती करने से
बता दें कि महेन्द्र सिंह धोनी को सटीक डीआरएस रिव्यू के लिए जाना जाता है। जब 2011 के फाइनल मुकाबले में श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी की थी। मैच में 39वां ओवर युवराज सिंह कर रहे थे। श्रीलंका की तरफ से तिलन समरावीरा बैटिंग कर रहे थे। इस ओवर में युवराज की एक बॉल पर समरावीरा कि खिलाफ एलबीडब्यू की अपील की गई। हालांकि अंपायर ने नॉटआउट बताया। धोनी इस मामले में डीआरएस (अंपायर निर्णय समीक्षा प्रणाली) नहीं लेना चाहते थे। लेकिन युवराज सिंह ने धोनी को डीआरएस लेने को कहा। युवराज सिंह की जिद पर जब धोनी ने डीआरएस लिया तो नतीजा भारत के पक्ष के में आया और समरावीरा आउट हो गए।

यह भी पढ़ें— दिनेश कार्तिक की पत्नी से था मुरली विजय का अफेयर, ऐसे मिला था दोस्ती में धोखा

icc_world_cup_2011_winner.png

दो बार हुआ था टॉस
बता दें कि आईसीसी वर्ल्ड कप 2011 के फाइनल में दो बार टॉस किया गया था। दरअसल, जब पहली बार टॉस हुआ तो मैच रैफरी ने ठीक से नहीं सुना था कि श्रीलंका के कप्तान संगकारा ने क्या मांगा। ऐसे में दोबारा टॉस किया गया और श्रीलंका ने टॉस जीता। श्रीलंका ने पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय लिया। श्रीलंका ने पहले बैटिंग करते हुए 274 रन बनाए थे। वहीं जब टीम इंडिया बैटिंग करने उतरी तो वीरेन्द्र सहवाग पहले ही ओवर में आउट हो गए थे। मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर भी 18 रन बनाकर पैवेलियन लौट गए थे।

यह भी पढ़ें— SA vs PAK: पाकिस्तान के खिलाफ वनडे सीरीज में चुने जाने पर एडेन मार्करम को हुई हैरानी

गौतम गंभीर ने खेली 97 रन की पारी
वर्ल्ड कप के फाइनल में गौतम गंभीर ने भारत की तरफ से शानदार पारी खेली। सहवाग के आउट होने के बाद गौतम गंभीर बैटिंग करने उतरे। उन्होंने 97 रनों की बेहतरीन पारी खेली और भारत ने विश्व कप जीता। वहीं कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने नाबाद 91 रन बनाए थे।

आइए जानें— IPL 2021 Full Schedule and Fixtures

Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned