Video : विंडीज के खिलाफ टेस्ट खेलकर भारत करेगा आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप का आगाज, यह है नियम

टेस्ट चैम्पियनशिप के हर सीरीज के लिए रखे गए हैं 120 अंक

By: Mazkoor

Updated: 13 Aug 2019, 09:56 PM IST

क्रिकेट

नई दिल्ली : भारत 22 अगस्त से आईसीसी विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप का आगाज विंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज खेलकर करने जा रहा है। इसे लेकर सारे क्रिकेट लवर्स में उत्सुकता है तो आइए जानते हैं कि टेस्ट चैम्पियनशिप के कायदे कानून के बारे में।

14 जून 2021 को मिलेगा पहला विजेता

विश्व टेस्ट चैंपियनशिप दो साल के चक्र में खेली जाएगी। यह एक अगस्त से शुरू होकर 31 मार्च 2021 तक चलेगी। दो शीर्ष दो टीमें फाइनल में 10 से 14 जून 2021 को फाइनल में भिड़ेंगी। इस चैम्पियनशिप में नौ देश हिस्सा लेंगे। ये टीमें हैं भारत, वेस्टइंडीज, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, दक्षिण अफ्रीका, पाकिस्तान, श्रीलंका, न्यूजीलैंड और बांग्लादेश।

फाइनल में मुकाबला बराबरी पर रहने पर टीमें होंगी संयुक्त विजेता

फाइनल मैच टाई या ड्रॉ रहने की स्थिति में दोनों टीमों को संयुक्त विजेता घोषित किया जाएगा। हालांकि टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल के लिए रिजर्व डे भी रखा गया है। अगर पूरे दिन का मैच बारिश या किसी अन्य कारण से खराब होता है तो उस दिन का मैच रिजर्व डे के दिन खेला जाएगा।


यह है टेस्ट चैंपियनशिप का नियम

दो साल की अवधि में शीर्ष नौ रैंकिंग वाली टीमों को आपसी सहमति से चुनी गईं प्रतिद्वंदी टीमों के साथ छह द्विपक्षीय टेस्ट सीरीज खेलनी हैं। इनमें से तीन सीरीज घरेलू मैदान पर होंगी, जबकि तीन विपक्षी टीम की जमीन पर। टेस्ट मैच चाहे जितने भी हों, एक सीरीज में अंक 120 ही मिलेंगे। अगर दो टेस्ट मैच की सीरीज है तो एक टेस्ट के लिए 60 अंक निर्धारित होंगे। जीतने वाली टीम को पूरे 60 अंक दिए जाएंगे। टाई या बेनतीजा रहने पर दोनों टीमों के खाते में 30-30 अंक दिए जाएंगे। ड्रॉ होने की सूरत में 20-20 अंक दिए जाएंगे। इसी प्रकार अगर तीन टेस्ट मैच की सीरीज है तो इसके लिए हर टेस्ट के लिए 40-40 अंक निर्धारित होंगे और उसी अनुपात में जीत-हार, टाई या ड्रॉ पर अंक उस 40 अंकों में से ही बटेंगे। अंक हर टेस्ट के हिसाब से दिए जाएंगे, न कि टेस्ट सीरीज के आधार पर।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned