जानिए क्यों, जेम्स एंडरसन नए युग के क्रिकेटरों से कर रहे हैं प्रार्थना

मौजूदा दौर में नए क्रिकेटर टेस्ट क्रिकेट की तुलना में टी-20 और वन डे क्रिकेट पर ज्यादा ध्यान दे रहे हैं। ऐसे में टेस्ट क्रिकेट के भविष्य पर प्रश्नचिन्ह लगा है। 

 

By:

Published: 02 Mar 2018, 04:00 PM IST

लंदन। क्रिकेट के जनक के रूप में इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया को माना जाता है। इन दोनों के बीच ही क्रिकेट इतिहास का पहला मैच भी खेला गया था। सालों बाद आज जब क्रिेकेट पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हो चुका है, तब भी इंग्लैंड के स्टार गेंदबाज जेम्स एंडरसन क्रिकेट के भविष्य को लेकर चितिंत हैं। इंग्लैंड के लिए टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले जेम्स एंडरसन की चिंता क्रिकेट के सबसे पुराने प्रारूप टेस्ट क्रिकेट को लेकर है। एंडरसन का मानना है कि टी-20 क्रिकेट से ज्यादा कमाई होने के कारण युवा खिलाड़ी टेस्ट क्रिकेट से दूर हो सकते हैं। एंडरसन ने कहा कि मैं प्रार्थना करता हूं कि खिलाड़ियों में टेस्ट क्रिकेट को लेकर प्रेम बरकरार रहे।

टेस्ट की बजाए टी-20 पर ज्यादा जोर -
मौजूदा दौर में नए क्रिकेटर टेस्ट से इतर टी-20 पर जोर दे रहे हैं। इंग्लैंड के स्पिन गेंदबाज आदिल रशीद और बल्लेबाज एलेक्स हेल्स ने क्रिकेट के सीमित ओवर के प्रारूप को अधिक समय देने के लिए पिछले महीने इंग्लैंड की प्रथम श्रेणी क्रिकेट में खेलने से इनकार कर दिया था। जेम्स एंडरसन ने कहा कि विश्व में जिस तरह की क्रिकेट हो रही है और जितनी टी-20 क्रिकेट खेली जा रही है, उससे यह डर है कि कई खिलाड़ी टेस्ट क्रिकेट से दूर हो सकते हैं।

रशीद और हेल्स के फैसले पर कहा -
रशीद और हेल्स अपने क्लब के लिए केवल सीमित ओवर वाले क्रिकेट मैच खेलेंगे। एंडरसन ने कहा कि खिलाड़ियों को यह लग सकता है कि अगर उन्हें क्रिकेट में करियर बनाना है तो टी-20 क्रिकेट ही उनके लिए एकमात्र रास्ता है। इसमें आपको फील्ड पर कम समय बिताना होता है और यह शरीर एवं दिमाग के लिए भी आसान है। एंडरसन ने आगे कहा कि खिलाड़ी इससे अधिक कमाई भी कर सकते हैं, जो इन्हें क्रिकेट के सीमित ओवर के प्रारूप की ओर अधिक आकर्षित करता है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned