scriptNO DRS in ranji trophy finals due to lack of money BCCI | मीडिया राइट्स की नीलामी कर BCCI ने कमाए कई हज़ार करोड़, लेकिन रणजी में DRS के लिए नहीं है पैसे, शर्मनाक | Patrika News

मीडिया राइट्स की नीलामी कर BCCI ने कमाए कई हज़ार करोड़, लेकिन रणजी में DRS के लिए नहीं है पैसे, शर्मनाक

NO DRS in Ranji trophy final: इस फाइनल मुक़ाबले का लाइव टेलीकास्टिंग और स्ट्रीमिंग की जा रही है। लेकिन DRS नहीं है। रिपोर्ट्स के मुताबिक ऐसा इसलिए हुआ है क्योंकि DRS टेक्नोलॉजी काफी महंगी है और बीसीसीआई इसे रणजी में यूज नहीं करना चाहता।

नई दिल्ली

Updated: June 23, 2022 02:09:28 pm

Ranji trophy finals: इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के मीडिया राइट्स 48000 करोड़ में बेचने के बाद भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) दुनिया का सबसे रईस क्रिकेट बोर्ड बन गया है। लेकिन इसके बावजूद रणजी ट्रॉफी 2022 के फाइनल मुकाबले में बोर्ड को शर्मसार होना पड़ा है। मध्य प्रदेश और मुंबई के बीच बेंगलुरु के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले जा रहे इस मैच में डिसिजन रिव्यू सिस्टम (DRS) उपलब्ध नहीं है।

drs_ranji.png
रणजी का फाइनल मुक़ाबला

इस फाइनल मुक़ाबले का लाइव टेलीकास्टिंग और स्ट्रीमिंग की जा रही है। लेकिन DRS नहीं है। रिपोर्ट्स के मुताबिक ऐसा इसलिए हुआ है क्योंकि DRS टेक्नोलॉजी काफी महंगी है और बीसीसीआई इसे रणजी में यूज नहीं करना चाहता। बोर्ड ने रणजी ट्रॉफी 2019-20 के सेमीफाइनल और फाइनल के दौरान 'सीमित डीआरएस' का प्रयोग किया था। इसमें हॉक-आई और अल्ट्राएज टेक्नोलॉजी का भी इस्तेमाल किया गया था। लेकिन इस साल बोर्ड ने ऐसा नहीं किया है।

DRS नहीं होने से पहली बार फाइनल खेल रही मध्य प्रदेश की टीम को नुकसान हुआ है। दरअसल इस सीजन में एक के बाद एक शतक ठोकने वाले मुंबई के इनफॉर्म बल्लेबाज सरफराज खान तेज गेंदबाज गौरव यादव की गेंद पर एलबीडबल्यू आउट हो गए थे। लेकिन अंपायर ने उन्हें नॉट-आउट देते हुए 'जीवनदान' दे दिया। रीप्ले में साफ देखा जा सकता था कि वे आउट थे।

सरफराज जैसे बल्लेबाज को ऐसे जीवनदान देना एमपी पर भारी पड़ा है और उन्होंने एक बार फिर शतक जड़ दिया है। इस मैच में सरफराज ने अबतक 123 रन बना लिए हैं और मुंबई ने 9 विकेट खोकर 357 रन बना लिए हैं। बता दें इस मैच में भारत के दो सर्वश्रेष्ठ अंपायर केएन अनंतपद्मद्मदमनाभन और वीरेंद्र शर्मा अंपायरिंग कर रहे हैं।

DRS बहुत महंगी तकनीक है। इसीलिए यह सुविधा सभी मैचों में नहीं देखने को मिलती। इसके लिए दो और चार कैमरे के दो अलग -अलग सेटअप लगाए जाते हैं। इनमें 2 कैमरा सेटअप के लिए 6 हजार डॉलर और 10 हजार डॉलर का खर्च आता है। मशीन की वायरिंग और डिरिगिंग बेहद महनगी होती है। इसके अलावा हॉकआई के लिए एक्सट्रा कैमरे लगाए जाते हैं। ऐसे में इसमें करीब 16 हज़ार डॉलर यानि 12 लाख रुपये का खर्च आता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान में 26 से फिर होगी झमाझम बारिश, यहां बरसेगी मेहरबुध ने रोहिणी नक्षत्र में किया प्रवेश, 4 राशि वालों के लिए धन और उन्नति मिलने के बने योगबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीबेहद शार्प माइंड के होते हैं इन राशियों के बच्चे, सीखने की होती है अद्भुत क्षमतानोएडा में पूर्व IPS के घर इनकम टैक्स की छापेमारी, बेसमेंट में मिले 600 लॉकर से इतनी रकम बरामदझगड़ते हुए नहर पर पहुंचा परिवार, पहले पिता और उसके बाद बेटा नहर में कूदा3 हजार करोड़ रुपए से जबलपुर बनेगा महानगर, ये हो रही तैयारी

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: CM उद्धव ठाकरे ने शिवसेना के बागी विधायकों को दिया 24 घंटे का अल्टीमेटम, कही ये बड़ी बातMaharashtra Political Crisis: नासिक में एकनाथ शिंदे का भारी विरोध, शिवसैनिकों ने पोस्टर पर कालिख पोती, शिंदे ने टाला मुंबई आने का प्लानMaharashtra Political Crisis: गुवाहटी के होटल में विधायकों पर पानी की तरह बहाया जा रहा पैसा, जानिए रहने और खाने पर कितना हो रहा खर्चPresidential Election: NDA प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू ने सोनिया गांधी, ममता बनर्जी व शरद पवार से की बात, सपा का यशवंत सिन्हा को सर्मथन का ऐलानगुजरात दंगाः जाकिया जाफरी को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका, SIT की क्लीन चिट के खिलाफ याचिका खारिजMumbai News Live Updates: BJP विधायक तरंग गोगोई गुवाहाटी के रैडिसन ब्लू होटल पहुंचे, यहीं ठहरे हुए हैं शिवसेना के बागी विधायकMaharashtra Political Crisis: शरद पवार से मुलाकात के बाद संजय राउत के तेवर सख्त, बोले-फ्लोर टेस्ट में जीतेंगे, बागियों से बातचीत का निकल गया वक्तMaharashtra Political Crisis: केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे ने उद्धव सरकार पर कसा तंज, बोले-ये लोग आपस में झगड़ कर खुद गिरा लेंगे सरकार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.