रोहित शर्मा ने खोला राज, सालों पहले से पता था कि मिलेगा ओपन करने का मौका

रोहित शर्मा ने खोला राज, सालों पहले से पता था कि मिलेगा ओपन करने का मौका

Mazkoor Alam | Updated: 06 Oct 2019, 04:46:13 PM (IST) क्रिकेट

रोहित शर्मा को इस टेस्ट मैच की दोनों पारियों में शतक लगाने के लिए मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड मिला।

विशाखापत्तनम : बतौर सलामी बल्लेबाज टेस्ट मैच में पहली बार बतौर सलामी उतरे रोहित शर्मा ने अपने पहले टेस्ट की दोनों पारियों में शतक ठोंक दिया। उन्होंने पहली पारी में 176 और दूसरी पारी में 127 रनों की पारी खेली। इस टेस्ट मैच की दोनों पारियों को मिलाकर उन्होंने कुल 13 छक्के लगाए। यह किसी एक टेस्ट में किसी बल्लेबाज की ओर से लगाया गए सर्वाधिक छक्के हैं। उनको इस शानदार प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड दिया गया। इस मौके पर रोहित ने टीम प्रबंधन का शुक्रिया अदा किया।

रोहित ने कहा- वह अपना सर्वश्रेष्ठ देना चाहते थे

मैच के बाद रोहित शर्मा ने कहा कि वह अपना सर्वश्रेष्ठ देना चाहते थे। उनके लिए पारी का आगाज करना एक शानदार मौका था। इस मौके को देने के लिए वह टीम प्रबंधन का शुक्रिया अदा करना चाहते हैं। इसलिए भी क्योंकि उन्होंने पहले कभी ओपन नहीं किया था।

मुंबई में जलवा दिखाने जा रहे बॉस्केटबॉल खिलाड़ी जेम्स के सामने कमाई में कहीं नहीं ठहरते कोहली

नई गेंद से नेट्स पर करते रहे हैं अभ्यास

रोहित शर्मा ने कहा कि कुछ साल पहले उनसे कहा गया था कि वह टेस्ट में भी पारी की शुरुआत कर सकते हैं। इस वजह से वह नेट्स पर पहले से नई गेंद से अभ्यास किया करते थे। उन्होंने बताया कि कुछ साल पहले उन्हें इसका संकेत दिया गया था। वह शारीरिक और मानसिक तौर पर इसके लिए तैयार थे। उनके लिए यह चौंकाने वाला निर्णय नहीं था।

स्वाभाविक खेल ही खेलेंगे

रोहित ने कहा कि पारी की शुरुआत में आपको सावधानी बरतनी होती है। आप चाहे लाल गेंद से खेलें या फिर सफेद से आपको अपने बेसिक्स पर ध्यान देना होता है और अच्छी गेंदों का सम्मान करना होता है। रोहित ने कहा कि उनका काम एक खास अंदाज में खेलना था और यह वही था, जो लोग उनसे सालों से उम्मीद करते आए हैं। उन्होंने कहा कि वह आने वाले समय में भी अपना स्वाभाविक खेल जारी रखेंगे। उन्होंने इसमें सावधानी के साथ आक्रमकता भी शामिल किया है, लेकिन इसके बावजूद यह काफी हद तक दिन विशेष के हालात पर निर्भर करता है।

दोनों पारियों में शतक लगाने वाले छठे भारतीय बनें रोहित, सर्वाधिक छक्कों का भी बनाया रिकॉर्ड

मेरे नाम कितने रिकॉर्ड बने, इसकी जानकारी नहीं थी

रोहित ने कहा कि यह सबसे अहम होता है कि विकेट कैसी है। उन्होंने यह भी कहा कि इस मैच में उनके नाम कई रिकार्ड हुए। उन्हें इसकी जानकारी नहीं थी। उनका ध्यान अपने खेल का लुत्फ उठाने का था और अपनी टीम को अच्छी स्थिति में लाने पर था। वह अपनी कोशिश में कामयाब रहे, क्योंकि वह मानते हैं कि किस्मत भी बहादुरों का साथ देता है। उन्होंने यह भी कहा कि उनकी टीम का पूरा ध्यान मैच जीतने पर था और हम यह करने में सफल रहे।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned