भारत की हार पर बिफरे गांगुली, रवि शास्त्री की भूमिका पर उठाये सवाल

भारत की हार पर बिफरे गांगुली, रवि शास्त्री की भूमिका पर उठाये सवाल

Siddharth Rai | Publish: Sep, 05 2018 05:42:53 PM (IST) क्रिकेट

ख़राब बल्लेबाजी के चलते भारत को ये मैच गवाना पड़ा। टीम इंडिया की इसी नाकामी की वजह से टीम मैनेजमेंट से लेकर कोच रवि शास्त्री और सपोर्ट स्टाफ पर उंगलियांं उठना शुरू हो गई हैं।

नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच जारी पांच मैचों की टेस्ट सीरीज के चार मैच हो चुके हैं और भारतीय टीम 3-1 से पीछे चल रही हैं। साउथम्पटन के रोज बाउल स्टेडियम में खेले गए चौथे टेस्ट मैच में भारत इंग्लैंड से जीता हुआ मैच हार गया। ख़राब बल्लेबाजी के चलते भारत को ये मैच गवाना पड़ा। टीम इंडिया की इसी नाकामी की वजह से टीम मैनेजमेंट से लेकर कोच रवि शास्त्री और सपोर्ट स्टाफ पर उंगलियांं उठना शुरू हो गई हैं।

गांगुली ने रवि शास्त्री को लिए आड़े हाथ
दक्षिण अफ्रीका में (2-1) सीरीज हारने के बाद अब इंग्लैंड में भी भारत को सीरीज गावनि पड़ी है। ऐसे में रवि शास्त्री कैसे कह सकते हैं कि ये टीम दुनिया को पछाड़कर नंबर वन बनी है। ऐसे में रवि शास्त्री से लेकर सपोर्ट स्टाफ पर उंगली उठना लाजमी है। इस बीच टीम इंडिया के सपोर्ट स्टाफ में फेरबदल होना तय माना जा रहा है। इसके संकेत भी मिल गए हैं। गौरतलब है कि जब रवि शास्त्री को टीम का मुख्य कोच चुना गया था, उसी समय सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण वाली क्रिकेट एडवाइजरी कमिटी ने विदेशी दौरे के लिए राहुल द्रविड़ को बैटिंग कंसलटेंट और जहीर खान को बोलिंग कंसलटेंट नियुक्त किया था।

द्रविड़ को हटाया था बैटिंग कंसलटेंट के पद से
रवि शास्त्री के साथ जब राहुल द्रविड़ और जहीर का नाम बलबाजी और गेंदबाजी कंसलटेंट के लिए चुना गया था लेकिन बाद में इन दोनों दिग्गज खिलाड़ियों को हटा कर संजय बांगर और भरत अरुण का नाम इस पोजिशन के लिए चुना गया। इसी बात को लेकर सौरव गांगुली ने अब एक बयान दिया है।एक मीडिया शो के दौरान गांगुली ने कहा, "राहुल द्रविड़ ने बैटिंग कंसलटेंट के लिए पूछा था। यहां तक कि वो इसके लिए सहमत भी थे. लेकिन बाद में शास्त्री और उनके बीच में क्या बात हुई मुझे नहीं पता। कमिटी ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर्स (CoA) ने कोच सलेक्शन में कन्फ्यूजन कर दिया। यह देख हम परेशान हो गए और इससे बाहर निकलना सही समझा।" गांगुली ने आगे कहा, "इसलिए यह मेरे लिए कहना कठिन है कि राहुल द्रविड़ क्यों बैटिंग कंसलटेंट नहीं बने। लेकिन, अगर रवि शास्त्री विराट कोहली से कंसल्ट करने के बाद राहुल द्रविड़ का चुनाव करते तो इससे भारत की बल्लेबाजी में सुधार आता और साथ ही वह टीम इंडिया बाहर अच्छी कर सकती थी।"

Ad Block is Banned