सौरव गांगुली BCCI अध्‍यक्ष बने रहेंगे या होगी छुट्टी, फैसला आज

BCCI के अध्यक्ष सौरव गांगुली, सचिव जय शाह और संयुक्त सचिव जयेश जॉर्ज के भविष्य पर आज सुप्रीम कोर्ट फैसला सुनाएंगे।
मामले की सुनवाई नहीं होने के कारण 8 महीने का सेवाविस्तार तीनों को पहले ही मिल चुका है।

By: Shaitan Prajapat

Updated: 15 Apr 2021, 11:36 AM IST

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के अध्यक्ष सौरव गांगुली, सचिव जय शाह और संयुक्त सचिव जयेश जॉर्ज के भविष्य पर आज सुप्रीम कोर्ट फैसला सुनाएंगे। गांगुली, शाह, और जॉर्ज के खिलाफ पिछले लंबे समय से मामला विचाराधीन चल रहा है। शीर्ष कोर्ट इस पर गुरूवार को तय करेगा कि ये तीन अपने पद पर बने रहेंगे या नहीं। आपको बता दें कि अगस्त 2019 में सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई की संविधान पास किया गया था। इसके बाद से ये तीनों कूलिंग आफ पीरियड में हैं। नियमों के अनुसार बीसीसीआई के सभी क्रिकेट प्रशासकों को तीन साल के भीतर अपनी जगह छोड़नी होती है। इसके हिसाब से तीनों का कार्यकाल 2020 के मध्य में समाप्त हो गया है। मामले की सुनवाई नहीं होने के कारण 8 महीने का सेवाविस्तार तीनों को पहले ही मिल चुका है। अब शीर्ष अदालत इस पर अपना फैसला सुनाएगी कि क्‍या ये तीनों अपने-अपने पदों पर बने रहने चाहिए या इनकी छुट्टी हो जाएगी।

आज आएगा महत्वपूर्ण फैसला
इस मामले में न्यायमूर्तिम एन नागेश्वर राव की अध्यक्षता वाली दो सदस्यीय पीठ आज अपना फैसला सुनाएगी। खबरों के अनुसार, मामले की सुनवाई करने जा रही पीठ ने इस मामले को उच्च प्राथमिकता का मानते हुए दिन की कार्रवाई इसी मामले के साथ करने का फैसला किया है। बता दे कि 23 मार्च को मामले की सुनवाई होने वाली थी लेकिन न्यायमूर्ति राव की मराठा आरक्षण मामले की वजह से व्यस्तता के कारण सुनवाई नहीं हो सकी।

यह भी पड़ें :— ICC ODI Ranking : विराट कोहली को पछाड़ पाकिस्तानी क्रिकेटर बाबर आजम बने नंबर 1 बल्लेबाज

जानिए क्या चाहता है बीसीसीआई
इस मामले में बीसीसीआई चाहता है कि गांगुली, जॉर्ज और शाह बिना कूलिंग ऑफ पीरियड के अपना काम करते रहे। बेंच ने युद्धवीर सिंह, उत्तर प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के सचिव की कंटेंप्ट याचिका भी स्वीकार कर ली गई। संविधान किसी भी सरकारी अधिकारी को बीसीसीआई या स्टेट एसोसिएशन में शामिल होने की इजाजत नहीं देता। पिछले दिनों इस मामले में सौरव गांगुली ने कहा था कि यह मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में चल रही है, इस पर बोल ठीक नहीं है। कोर्ट का फैसला आने के बाद तय होगए आगे क्या करना है।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned