जडेजा को मैन ऑफ दा मैच में मिलने वाला चेक मिला कचरे के ढेर में, बीसीसीआई की लगी क्लास

जडेजा को मैन ऑफ दा मैच में मिलने वाला चेक मिला कचरे के ढेर में, बीसीसीआई की लगी क्लास

Siddharth Rai | Publish: Nov, 10 2018 04:48:17 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 04:48:18 PM (IST) क्रिकेट

भारत और वेस्टइंडीज के बीच पांच मैचों की वनडे सीरीज का आखिरी मैच केरल की राजधानी तिरुवनन्तपुरम में खेला गया। इस मैच में टीम के स्टार ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा को मैन ऑफ़ दा मैच चुना गया। इस पुरस्कार के साथ उन्हें 1 लाख रुपए का चेक भी दिया गया। इस चेक का रेप्लिका कचरे के ढेर में पाया गया जिसके बाद केरला के एक एनजीओ ने इसकी तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए बीसीसीआई पर निशाना साधा है।

नई दिल्ली। अगर आप क्रिकेट देखते हैं तो अपने देखा होगा की मैच के बाद जब भी किसी खिलाड़ी को कोई पुरस्कार दिया जाता है उसके साथ उसे चेक का रेप्लिका भी दिया जाता है। यह पुरस्कार प्रदर्शन के आधार पर दिए जाते हैं। ये रेप्लिका केवल कंपनी का प्रचार करने और तस्वीर लेने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। हम सब जानते हैं की खिलाड़ी उस बड़े से चेक को बैंक लेकर नहीं जाता तो फिर वो चेक जाता कहां है कभी सोचा है।

ये रेप्लिका सीधा कचरे के ढेर में जाते हैं। भारत और वेस्टइंडीज के बीच पांच मैचों की वनडे सीरीज का आखिरी मैच केरल की राजधानी तिरुवनन्तपुरम में खेला गया। इस मैच में टीम के स्टार ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा को मैन ऑफ़ दा मैच चुना गया। इस पुरस्कार के साथ उन्हें 1 लाख रुपए का चेक भी दिया गया। इस चेक का रेप्लिका कचरे के ढेर में पाया गया जिसके बाद केरला के एक एनजीओ ने इसकी तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए बीसीसीआई पर निशाना साधा है। एनजीओ ने बीसीसीआई की पर्यावरण की ओर उनकी अनभिज्ञता को लेकर आलोचना की और क्रिकेट मैचों के दौरान प्लास्टिक या गैर जैव अपघटन योग्य सामग्रियों को कम करने के विकल्पों पर विचार करने को कहा।

जब इस रेप्लिका को सिर्फ ब्रांडिंग, प्रमोसन और तस्वीर खीचने के लिए ही उपयोग करना है तो उससे प्लास्टिक की वजाय कागज़ का क्यों नहीं बनाना चाहिए। पेपर आसानी से नष्ट भी हो जाता है और प्रदूषण भी नहीं होता।

Ad Block is Banned