वेस्ट इंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज से पहले देखें, यहां किन भारतीयों का बोलता रहा है बल्ला

Mazkoor Alam

Publish: Aug, 09 2019 09:17:51 PM (IST) | Updated: Aug, 09 2019 09:19:03 PM (IST)

क्रिकेट

नई दिल्ली : वेस्ट इंडीज दौरे पर टीम इंडिया टी-20 में मेजबान को 3-0 से धूल चटा चुकी है। वनडे सीरीज जारी है, जिसका पहला मैच बारिश की वजह से रद्द हो गया। 22 अगस्त को पहला टेस्ट मैच खेला जाएगा और श्रृंखला का दूसरा व अंतिम टेस्ट मैच 30 अगस्त से 4 सितंबर के बीच होगा। ये दोनों मैच विश्व टेस्ट चैंपियनशिप का हिस्सा हैं, इससे इनका महत्व और भी बढ़ जाता है। टेस्ट मैच को ही क्रिकेट के खेल की असली परीक्षा कहा जाता है, क्योंकि इसमें सफल होने के लिए खिलाड़ियों को अपनी मानसिक शक्ति, शारीरिक ताकत, स्टेमिना और तकनीक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना पड़ता है। यदि बल्लेबाजी की बात की जाए, तो भारत के कई बल्लेबाजों ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ क्रिकेट के सबसे बड़े संस्करण में बेहतरीन प्रदर्शन किया है। आज हम आपको उन भारतीय बल्लेबाजों के बारे में बताएंगे, जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में वेस्ट इंडीज के खिलाफ सबसे ज्यादा रन बनाए हैं।

खौफ रहा है कैरेबियन गेंदबाजों का

वेस्टइंडीज की क्रिकेट टीम के खिलाफ रन बनाना बेहद मुश्किल काम माना जाता रहा है। इसकी वजह यह है कि वेस्टइंडीज के पास हमेशा से ही खतरनाक तेज गेंदबाज रहे हैं। 70-80 के दशक में तो उनके पास एंडी रॉबर्ट्स, माइकल होल्डिंग, मैल्कम मार्शल और जोएल गार्नर जैसे खौफनाक तेज गेंदबाज थे। 90 के दशक में भी कर्टली एंब्रोस, कोर्टनी वॉल्श, इयान बिशप और पैट्रिक पैटरसन जैसे तूफानी तेज गेंदबाजों ने बल्लेबाजों को खूब डराया। आज भी वेस्टइंडीज के पास उभरते तेज गेंदबाज हैं। दुनिया में सबसे पहले पांच सौ विकेट लेने वाले तेज गेंदबाज वेस्टइंडीज के ही वॉल्श थे, तो 350 विकेट लेने वाले सभी गेंदबाजों में सबसे कम रन देकर विकेट लेने का रिकॉर्ड मैल्कम मार्शल के नाम है। मार्शल को तो सर्वकालीन सर्वश्रेष्ठ तेज गेंदबाज भी माना जाता है। आज हम जिन चार भारतीय बल्लेबाजों की बात कर रहे हैं, वे ऐसे सटीक तेज गेंदबाजी अटैक के खिलाफ भी रनों का पहाड़ बनाने में सफल रहे।

इस दक्षिण अफ्रीकी ऑलराउंडर ने टी-20 क्रिकेट में किया कारनामा, एक ही पारी में ले लिए इतने विकेट

सुनील गावस्कर

सुनील मनोहर गावस्कर किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। उन्होंने ही अटूट समझे जाने वाले डॉन ब्रैडमैन के 29 शतकों के रिकॉर्ड को तोड़ा था। दुनिया में सबसे पहले 10,000 टेस्ट रन बनाने का रिकॉर्ड भी उन्होंने ही बनाया था। वेस्ट इंडीज के खिलाफ गावस्कर ने 48 पारियों में 65.45 के औसत से 2749 रन बनाए। उन्होंने वेस्ट इंडीज के खिलाफ 13 शतक भी जड़े जो एक रिकॉर्ड है। भारतीय क्रिकेट में गावस्कर अपनी खास शैली लेकर आए, जिसने बाद में सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ जैसे युवाओं के लिए पथ-प्रदर्शक का काम किया।

राहुल द्रविड़

द वॉल यानी कि दीवार कहे जाने वाले राहुल द्रविड़ ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ शानदार प्रदर्शन किया। उन्होंने 38 पारियों में 63.81 के औसत से 1978 रन बनाए। राहुल को तकनीकी रूप से भारत के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में गिना जाता है। एक खिलाड़ी के रूप में क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद राहुल अब युवाओं को क्रिकेट की पेचीदगियां सिखाने में जुटे हुए हैं।

वीवीएस लक्ष्मण ने क्रुणाल पांड्या को बताया चतुर खिलाड़ी, वनडे टीम में शामिल करने की वकालत की

वीवीएस लक्ष्मण

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कोलकाता टेस्ट मैच की दूसरी पारी में 281 रन की पारी खेलकर क्रिकेट के इतिहास में अपना नाम दर्ज कराने वाले वीवीएस लक्ष्मण ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ भी जमकर बल्लेबाजी की। वेस्ट इंडीज के खिलाफ उन्होंने 36 पारियों में 57.17 के औसत से 1715 रन बनाए। क्रिकेट से संन्यास लेकर वह क्रिकेट कमेंटेटर बन गए हैं और अपने क्रिकेट ज्ञान से दर्शकों को मैच की बारीकियां समझाते हैं।

सचिन तेंदुलकर

इस सूची में चौथे नंबर पर वह बल्लेबाज है, जिसे महानता की सूची में पहले स्थान पर माना जाता रहा है। जी हां, हम बात कर रहे हैं सचिन तेंदुलकर की। सुनील गावस्कर को अपना आदर्श मानने वाले सचिन तेंदुलकर ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ भी रनों का पहाड़ खड़ा किया। उन्होंने वेस्ट इंडीज के खिलाफ 54.33 के औसत से केवल 32 पारियों में 1630 रन बनाए।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned