13 साल बाद टिम पेन ने दूसरा शतक लगाकर टीम को संकट से निकाला

13 साल बाद टिम पेन ने दूसरा शतक लगाकर टीम को संकट से निकाला

Mazkoor Alam | Publish: Oct, 12 2019 07:48:30 PM (IST) | Updated: Oct, 12 2019 07:49:03 PM (IST) क्रिकेट

13 साल पहले जब पेन ने अपना पहला शतक लगाया था तो उनके ओपनिंग साझीदार वर्तमान में ऑस्ट्रेलिया टीम के कोच जस्टिन लैंगर थे।

सिडनी : ऑस्ट्रेलियाई टेस्ट टीम के कप्तान टिम पेन ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में अपना दूसरा शतक लगाया। यह दूसरा शतक उनका तब आया है, जितने दिन में किसी क्रिकेटर का करियर खत्म हो जाता है। इस शतक की खास बात यह है कि उनका यह दूसरा शतक 13 साल बाद आया है और इससे भी खास बात यह है कि यह शतक उन्होंने उसी मैदान पर मारा है, जिस पर अपना पहला शतक लगाया था।

कपिल देव ने भारतीय तेज गेंदबाजी आक्रमण को बताया सर्वश्रेष्ठ, धोनी के संन्यास पर भी बोले

वर्तमान कोच थे तब उनके ओपनिंग पार्टनर

टिम पेन ने यह शतक वाका के पर्थ मैदान पर मारा है। इससे पहले जो प्रथम श्रेणी में उनका इकलौता शतक आया था, वह भी इसी ग्राउंड पर आया था। इतना ही नहीं उस पारी में उनके ओपनिंग पार्टनर जस्टिन लैंगर थे, जो अब ऑस्ट्रेलिया टीम के कोच हैं। इस मैच में उनके कप्तान रिकी पोंटिंग थे, वह भी फिलहाल में ऑस्ट्रेलिया कोचिंग टीम से जुड़े हैं।

लंदन में पांड्या से मिली नीता अंबानी, हार्दिक ने कहा- शुक्रिया

टेस्ट मैच में एक भी शतक उनके नाम नहीं है

पेन ने यह शतक तस्मानिया के खिलाफ लगाया। वह उस वक्त बल्लेबाजी करने आए थे, जब उनकी टीम 176 रन पर पांच विकेट गंवाकर संकट में थी। अपनी शानदार पारी की मदद से उन्होंने न सिर्फ अपनी टीम को संकट से निकाला, बल्कि विपक्षी टीम पर 60 रनों की बढ़त भी दिला दी। अपनी इस 121 पारी के दौरान उन्होंने 209 गेंदों का सामना किया और 13 चौके तथा एक सिक्स लगाया। वर्तमाम में ऑस्ट्रेलिया टीम के कप्तान राष्ट्रीय टीम की ओर से कुल 26 टेस्ट खेले हैं। इसमें उनके नाम एक भी शतक नहीं है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned