विश्व कप फाइनल : अंपायर साइमन टॉफेल ने कहा- जिन छह रनों ने इंग्लैंड को बनाया चैम्पियन, वह पांच थे

विश्व कप फाइनल : अंपायर साइमन टॉफेल ने कहा- जिन छह रनों ने इंग्लैंड को बनाया चैम्पियन, वह पांच थे

Mazkoor Alam | Updated: 15 Jul 2019, 06:00:10 PM (IST) क्रिकेट

  • Simon Taufel ने कुमार धर्मसेना के निर्णय को बताया गलत
  • उन्होंने कहा ओवरथ्रो पर छह नहीं सिर्फ पांच रन मिलने चाहिए थे

लंदन : इंग्लैंड ( England cricket team ) और न्यूजीलैंड ( New Zealand cricket team ) के बीच हुए आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2019 के ( ICC cricket world cup 2019 ) फाइनल मैच में लक्ष्य का पीछा करते समय आखिरी ओवर की चौथी गेंद पर इंग्लैंड को ओवरथ्रो पर छह रन मिले थे। लेकिन पूर्व अंतरराष्ट्रीय अंपायर साइमन टॉफेल का कहना है कि यह गलत निर्णय था। उस समय इंग्लैंड को छह की जगह सिर्फ पांच रन मिलने चाहिए थे। बता दें कि साइमन टॉफेल वर्तमान में एमसीसी की नियम उप-समिति का हिस्सा हैं, जो क्रिकेट खेल के संचालन के लिए नियम बनाती है।

यह है मामला

इंग्लैंड की ओर से बल्लेबाजी कर रहे ऑलराउंडर बेन स्टोक्स आखिरी ओवर की चौथी गेंद पर शॉट मारकर दो रन के लिए भागे। दूसरा रन लेते वक्त मार्टिन गुप्टिल का फेंका थ्रो सीधे उनके बल्ले से टकराया और गेंद बाउंड्री के बाहर चली गई। अंपायर कुमार धर्मसेना ने दौड़कर पूरे हुए दो और बाउंड्री के बाहर गेंद जाने पर मिले चार मिलाकर कुल छह रन इंग्लैंड के खाते में जोड़ दिए। बता दें कि इससे पहले इंग्लैंड को जीत के लिए आखिरी तीन गेंद पर 9 रनों की दरकार थी। मैच के बाद धर्मसेना की इस फैसले की काफी आलोचना हुई। कहा जा रहा है कि इसी एक अतिरिक्त रन से इंग्लैंड मैच की समाप्ति पर न्यूजीलैंड के स्कोर की बराबरी करने में सफल रहा और उसके बाद सुपर ओवर में उसने इतिहास रच दिया। हालांकि साइमन टॉफेल यह नहीं मानते कि इस एक घटना की वजह से मैच का निर्णय प्रभावित हुआ।

World Cup Final : सुपरओवर में टाई कराने के बाद भी हारा न्यूजीलैंड, इंग्लैंड बना पहली बार विश्व चैम्पियन

क्या है नियम

आईसीसी के नियम 19.8 के अनुसार, यदि ओवर थ्रो के बाद गेंद बाउंड्री के पार जाती है, तो पेनाल्टी के रन के अलावा बल्लेबाजों द्वारा दौड़कर पूरे किए गए रन भी जुड़ते हैं। उसमें यह देखा जाता है कि क्षेत्ररक्षक द्वारा गेंद थ्रो करने के समय दोनों बल्लेबाज लाइन क्रॉस हुए थे या नहीं। इसी को देखकर रन जोड़े जाते हैं।

 

Ben Stokes

न्यूजीलैंड के कोच का लॉर्ड्स के मैदान से है गहरा नाता, 29 साल पहले करते थे खिड़कियां साफ

कहा- निर्णय लेने में हुई गलती

साइमन टॉफेल ने कहा कि निर्णय लेने में की गई यह एक गलती है। हालांकि अंपायरों का बचाव करते हुए उन्होंने कहा उस माहौल में अंपायरों ने सोचा कि बल्लेबाज थ्रो के समय क्रॉस कर गए हैं, जबकि टीवी रिप्ले में कुछ और दिखा। यहां दिक्कत यह है कि अंपायरों को सबसे पहले बल्लेबाजों को रन पूरा करते देखना होता है और फिर उन्हें अपना ध्यान क्षेत्ररक्षक पर लगाना होता है, जो गेंद को उठाकर रिलीज करने वाला होता है। आपको देखना होता है कि उस वक्त बल्लेबाज कहां है। यह आसान काम नहीं है। चाहे मामला जो भी हो, टॉफेल के इस बयान के बाद विश्व कप फाइनल के नतीजे पर सवाल तो खड़े होते ही हैं।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned