Yuvraj Singh बोले, न सिर्फ उनके साथ कई महान खिलाड़ियों के साथ करियर के अंत में नहीं किया गया अच्छा व्यवहार

Yuvraj Singh ने कहा कि उन्हें लगता है कि उनके साथ करियर के अंत में जैसा व्यवहार किया गया, वो काफी गैरपेशवराना था।

By: Mazkoor

Updated: 27 Jul 2020, 01:10 AM IST

नई दिल्ली : टीम इंडिया (Team INdia) के पूर्व हरफनमौला युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने कहा कि जब वह करियर के अंतिम पड़ाव पर थे, तब उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया गया। उनके साथ पेशेवर रवैया नहीं अपनाया गया। युवराज सिंह को भारत के बेहतरीन हरफनमौलाओं में से एक माना जाता है। वह भारत की टी-20 विश्व कप-2007 (ICC T20 World Cup 2007) और विश्व कप-2011 (ICC ODI World Cup 2011) जीतने वाली टीम का अहम हिस्सा रह चुके हैं। युवराज ने कुछ और दिग्गज खिलाड़ियों का नाम लेते हुए कहा कि इनकी तरह उनके शानदार अंतरराष्ट्रीय करियर का समापन भी अच्छा नहीं रहा।

Steve Bucknor पर शांत नहीं हुआ Irfan Pathan का गुस्सा, बोले- दो नहीं सात-सात गलतियां हुई

कई भारतीय दिग्गजों के साथ नहीं हुआ अच्छा व्यवहार

युवराज सिंह ने कहा कि उन्हें लगता है कि उनके साथ करियर के अंत में जैसा व्यवहार किया गया, वो काफी गैरपेशवराना था। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि न सिर्फ उनके साथ, बल्कि कुछ और महान खिलाड़ियों जैसे हरभजन सिंह (Harbhajan Singh), वीरेंद्र सहवाग (Virendra Sehwag), जहीर खान (Zaheer Khan) आदि को देखते हैं तो उन्हें लगता है कि उनके साथ भी अच्छा व्यवहार नहीं किया गया है। इसके बाद उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से भारतीय क्रिकेट पर आरोप लगाते हुए कहा कि यह इसका हिस्सा है। युवराज ने कहा कि वह पहले भी ऐसा देख चुके हैं। इसलिए वह इससे हैरान नहीं थे।

युवराज बोले, भविष्य में ऐसे खिलाड़ियों को दें सम्मान

युवराज सिंह ने साथ में यह ताकीद भी की कि भविष्य में ऐसे खिलाड़ियों को जो भारत के लिए लंबे समय तक खेला हो और मुश्किल स्थितियों से गुजरा हो उसे निश्चित तौर पर सम्मान देना चाहिए। युवराज ने उदाहरण देते हुए कहा कि जैसे गौतम गंभीर जिसने हमारे लिए दो विश्व कप जीते। वीरेंद्र सहवाग जो टेस्ट क्रिकेट में सुनील गावस्कर (Sunil Gavsakar) के बाद हमारे लिए सबसे बड़े मैच विजेता खिलाड़ी रहे हैं। युवराज ने कहा कि वीवीएस लक्ष्मण (VVS Laxman), जहीर खान जैसे खिलाड़ियों को भी सम्मान मिलना चाहिए।

Kemar Roach ने हासिल की बड़ी उपब्लधि, 26 साल से विंडीज का कोई गेंदबाज नहीं कर पाया ऐसा

खुद को नहीं मानते महान

इस दौरान युवराज सिहं ने यह भी कहा कि वह खुद को महान खिलाड़ी नहीं मानते हैं। उन्होंने कहा कि यह खेल उन्होंने पूरे सम्मान के साथ खेला है, लेकिन ज्यादा टेस्ट क्रिकेट नहीं खेले हैं और उनकी समझ से महान खिलाड़ी वह है, जिनका टेस्ट रिकार्ड काफी अच्छा है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned