रेयान मर्डर केस: कंडक्टर बोला, जज साहब मुझे फंसाया है, पिता ने पीएमओ को पत्र लिखा

आरोपी कंडक्टर ने जज के सामने कहा कि उसे फंसाया जा रहा है। वहीं प्रद्युम्न के पिता ने पीएमओ से दखल की मांग की है।

By: Dharmendra

Updated: 19 Sep 2017, 09:25 AM IST

नई दिल्ली. रेयान मर्डर केस में नया खुलासा हुआ है। जिस बस कंडक्टर को प्रद्युम्न की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया था। उसने कोर्ट में कहा कि जज साहब मुझे फंसाया गया है। सोमवार को कोर्ट में मामले की सुनवाई के दौरान आरोप बस कंडक्टर अशोक ने बयान बदल दिए। स्पेशल कोर्ट में हुई सुनवाई में अशोक ने खुद को बेगुनाह बताया और उसने कहा कि इस मामले में उसे फंसाया जा रहा है। ८ सितंबर को गुरुग्राम में मासूम प्रद्युम्न की हत्या के बाद बस के कंडक्टर ने मीडिया के सामने गुनाह कबूल किया था कि उसने ही बच्चे का कत्ल किया है। उसने कहा था कि हत्या करने वक्त उसकी बुद्धि भ्रष्ट हो गई थी।

पुलिस बना रही दबाव
अशोक के वकील मोहित वर्मा ने मीडिया को बताया कि एडिशनल सेशन जज रजनी यादव की कोर्ट में अशोक को सोमवा दोपहर पेश किया गया। कोर्ट में अशोक ने जज के सामने खुद को निर्दोष बताया। अशोक ने कहा कि पुलिस ने मुझे फंसाया है, उसने ये भी कहा कि पुलिस ने हत्या का जुर्म कबूल करने के लिए मेरे ऊपर दबाव बनाया है। इसके बाद जज ने अशोक को 29 सिंतबर तक के लिए जेल भेज दिया गया।

दो अन्य को भी पेश किया
अशोक के वकील मोहित वर्मा ने कहा कि अशोक निर्दोष है और पुलिस उसको फंसाने के लिए दबाव बना रही है। अशोक के अलावा कोर्ट में इस मामले में गिरफ्तार रेयान स्कूल के दो अन्य अधिकारियों फ्रांसिस और जेएस थॉमस को भी पेश किया गया। पेशी के बाद जेएस थॉमस ने कहा कि वह स्कूल का एचआर हैड नहीं है। वह तो सिर्फ अकाउंटेट है। थॉमस के वकील ने बताया कि आरोपी स्कूल में पगार बांटने का काम करता है।


प्रद्युम्न के पिता ने पीएमओ को लिखा पत्र

प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर ने स्कूल दोबारा खोले जाने को लेकर कड़ा विरोध जताया है। वरुण ने पीएमओ को पत्र लिखकर दखल देने की मांग की है। मांग की है कि सीबीआई जांच शुरू होने से पहले स्कूल न खोला जाए। सोमवार को 10 दिन के बाद रेयान इंटरनेशनल स्कूल दोबारा खुला, लेकिन फिर से इसे बंद कर दिया गया है। सोमवार को प्रद्युम्न के पिता ने स्कूल खुलने का विरोध किया थाा। उनका कहना है कि स्कूल प्रबंधन ने सबूतों से छेड़छाड़ की, फिर कैसे स्कूल को खुलने दिया जा सकता है। उनका कहना था कि स्कूल प्रबंधन ने सबूतों से छेड़छाड़ की, खून के निशान मिटाने की कोशिश भी की, फिर कैसे स्कूल को खुलने दिया जा सकता है।

Narendra Modi
Dharmendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned