कोरेगांव-भीमा हिंसा मामले में सुरेंद्र गडलिंग कोर्ट के सामने पेश, पांच लोगों की हुई थी गिरफ्तारी

पुणे-कोरेगांव हिंसा मामले में गुरुवार को पुलिस ने नागपुर के वकील सुरेंद्र गडलिंग को कोर्ट के समाने पेश किया।

By: Mohit sharma

Published: 07 Jun 2018, 01:20 PM IST

नई दिल्ली। पुणे-कोरेगांव हिंसा मामले में गुरुवार को पुलिस ने नागपुर के वकील सुरेंद्र गडलिंग को कोर्ट के समाने पेश किया। पुणे पुलिस ने तथाकथित 'शहरी नक्सली समर्थकों' के खिलाफ एक बड़े अभियान के तहत गडलिंग को गिरफ्तार किया था। पुणे के ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर रविंद्र कदम ने जानकारी देते हुए बताया कि गडलिंग को आठ दिनों तक पुलिस रिमांड में रखा गया था, जिसके बाद उसको आज कोर्ट के सामने पेश किया गया है। रविंद्र ने बताया अन्य दोषियों को आज दोपहर बाद कोर्ट के सामने पेश किया जाएगा। बता दें कि बुधवार को महाराष्ट्र और नई दिल्ली से पांच दलित कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया था।

अमरीका: बच्चों का यौन शोषण करने वाले शख्स को 200 साल की कैद

घर से पेन ड्राइव, Hard Disk बरामद

पुलिस कमिश्नर कदम ने बताया कि रोना विलसन और सुरेंद्र गाडलिंग की नक्सलवादियों के साथ मिलीभगत की जांच के दौरान उनके तीन अन्य लोगों से भी संबंध पाए गए हैं। जिनको पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। जांच के दौरान पुलिस ने रोना विलसन के घर से एक पेन ड्राइव, Hard Disk व कुछ अन्य दस्तावेज बरामद किए हैं, जिनको फौरेंसिक जांच के लिए भेजा गया है।

नोबेल विजेता उठाएगा नॉर्थ कोरिया के शासक किम जोंग के होटल का खर्च

भड़काऊ भाषणों के सिलसिले में हुई थी गिरफ्तारी

बता दें कि यह गिरफ्तारी दिसंबर 2017 में पुणे में एक सभा में कथित भड़काऊ भाषणों के सिलसिले में हुई थी। गिरफ्तार लोगों में मुंबई के सुधीर धवले, नागपुर के वकील सुरेंद्र गडलिंग और दिल्ली के कार्यकर्ता रोना जैकब विल्सन शामिल हैं। इसके अलावा पुलिस ने नागपुर में शोमा सेन और मुंबई में महेश राउत को भी गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक गिरफ्तार लोगों में धवले मराठी पत्रिका 'विद्रोही' के संपादक हैं। इन लोगों ने 31 दिसंबर 2017 को पुणे स्थित शनिवारवाड़ा में एलगार परिषद आयोजित किया था।

Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned