नैनिताल: मर्डर करने का पैसा नहीं देने पर कोर्ट के बाहर भाजपा नेता की हत्या

नैनिताल: मर्डर करने का पैसा नहीं देने पर कोर्ट के बाहर भाजपा नेता की हत्या

Prashant Kumar Jha | Publish: Sep, 03 2018 04:19:17 PM (IST) क्राइम

भाजपा नेता ने आरोपी को पैसे देने का वादा किया था। लेकिन पैसे देने में अानाकानी कर रहा था। जिसपर देवेंद्र ने मनराल पर कोर्ट के बाहर ताबड़तोड़ फायरिंग कर हत्या कर दी।

नैनिताल: जिला कोर्ट के बाहर भाजपा कार्यकर्ता को गोली मारकर हत्या कर दी गई। पुलिस ने चार आरोपी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। पुलिस के मुताबिक भाजपा नेता पर मर्डर कराकर पैसा नहीं देने का आरोप था। दरअसल भाजपा नेता वीरेंद्र मनराल और हत्या के आरोपी देवेंद्र उर्फ भाऊ मर्डर केस के आरोपी है। आरोपी देवेन्द्र उर्फ भाउ बीजेपी नेता मनराल से बेहद खफा था। आरोप है कि बीजेपी नेता ने 2015 में सुपारी देकर इलाके के एक प्रभावशाली व्यक्ति की हत्या करवाई थी। बीजेपी नेता ने इसके लिए भाउ को पैसा देने का वादा किया था लेकिन उसने नहीं दिया था। दोनों पेशी के लिए 1 सितंबर को जिला कोर्ट में आए थे। तभी भाउ ने मनराल पर कोर्ट के बाहर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। ये दोनों ही शख्स रामनगर के रहने वाले हैं।

पुलिस ने चार लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया

पुलिस ने इस मामले में चार लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। पीड़ित के भाई दीवान मनराल की शिकायत पर पुलिस ने देवेंद्र, सोनू कंडपाल, हरिश फरत्याल और संजय नेगी के खिलाफ केस दर्ज किया है। रामनगर के एसएचओ विक्रम राठौर ने कहा कि मनराल और देवेन्द्र 2015 में हेमंत फरतयाल नाम के एक शख्स की हत्या के आरोपी हैं।

2015 में मनराल ने देवेंद्र की मदद से हेमंत की हत्या की

पुलिस अधिकारी राठौर ने कहा कि मनराल ने हत्या की योजना बनाई और देवेन्द्र की मदद से उसने उसकी हत्या की।इसके बदले में देवेंद्र को पैसे देने का वादा किया था। हालांकि इस मामले में दोनों आरोपियों को पकड़कर कोर्ट में पेश किया गया था। लेकिन मनराल और देवेंद्र को जमानत मिल गई। दोनों जमानत पर बाहर थे। देवेंद्र ने मनराल से पैसे की मांग की लेकिन मनराल पैसे देने में अनाकनी करने लगा। जिससे नाराज देवेन्द्र ने मनराल को खत्म करने की योनजा बनाई। और शनिवार को उसने अपने दोस्तों के साथ मनराल को कोर्ट परिसर के बाहर हत्या कर दी। पुलिस की मानें तो मनराल एक हिस्ट्री शीटर था उसके ऊपर 20 से ज्यादा मामला दर्ज था।

Ad Block is Banned