चंडीगढ़ छेड़छाड़: पीड़िता बोली- ‘मैं चेहरा क्यों छिपाऊं, शर्म तो उनको आनी चाहिए’

वर्णिका ने कहा कि मैं क्यों चेहरा छिपाऊं, शर्म तो उनको आनी चाहिए जिन्होंने ‘बेटी बचाओ’ का नारा देकर एक बेटी की इज्जत से खिलवाड़ करने की कोशिश की है।

By:

Published: 07 Aug 2017, 10:10 AM IST

चंडीगढ़। छेड़छाड़ का शिकार हुई आईएएस अफसर की बेटी वर्णिका आरोपी हरियाणा भाजपा अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे विकास बराला और उसके दोस्त आशीष के खिलाफ खुलकर सामने आ गई। वर्णिका ने इंसाफ के लिए बराला के बेटे के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया। शनिवार तक तक चेहरा छिपाकर मीडिया से बात कर रही युवती ने चेहरे से नकाब हटाते हुए कहा कि मैं क्यों चेहरा छिपाऊं, शर्म तो उनको आनी चाहिए जिन्होंने ‘बेटी बचाओ’ का नारा देकर ही एक बेटी की इज्जत से खिलवाड़ करने की कोशिश की है। युवती ने मीडिया से बातचीत में विकास बराला व उसके साथ आशीष को खुली चुनौती देते हुए कहा कि वह न्याय के लिए हर दरवाजे पर जाएंगी। युवती ने शुक्रवार की रात हुए घटना को बताते हुए कहा कि यह शुक्र है कि घटना चंडीगढ़ की है और पुलिस ने कार्रवाई करते हुए उसे बचा लिया। यही घटना अगर किसी गांव या देहात की होती तो शायद वह जिंदा न बचती।

 

अभी तक पिता नहीं आए खुलकर
युवती के आईएएस पिता तो खुलकर मीडिया के सामने नहीं आए अलबत्ता उन्होंने कहा कि वह अपनी बेटी के साथ हैं और आरोपियों को सजा दिलाने के लिए हर कीमत पर जंग लड़ेंगे।

माता-पिता साथ तो सबक सिखाने को तैयार
युवती ने कहा कि जब तक उसके माता-पिता उसके साथ है वह ऐसे आरोपियों को सबक सिखाने के लिए हर संभव प्रयास करेगी।

 

सोशल मीडिया पर छेड़ी मुहिम
सोशल मीडिया का आभार जताते हुए वर्णिका ने कहा कि वह आरोपियों के खिलाफ सोशल मीडिया पर जंग शुरू कर रही हैं और उन्हें यकीन है कि एक दिन वह जरूर जीतेंगी।

थाने से ही दे दी जमानत
मामले में दोनों आरोपियों को थाने से जमानत दे दी गई। आरोप है कि पुलिस ने एफआईआर से ऐसी धाराएं हटा ली जिनसे उन्हें जमानत मिलने में कठिनाई होती और थाने से जमानत दे दी गई। उधर, पुलिस का कहना है कि अपहरण का मामला इसलिए नहीं लगाया कि लडक़ी ने बयान ने यह नहीं बताया।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned