scriptGangsters : जबलपुर जेल में बन रही बाहुबलियों की गैंग, वांटेड्स के हर दिन बदले रहे बैरक | Gangsters: Gangs of strongmen are being formed in Jabalpur jail | Patrika News
क्राइम

Gangsters : जबलपुर जेल में बन रही बाहुबलियों की गैंग, वांटेड्स के हर दिन बदले रहे बैरक

Gangsters : जबलपुर जेल में बन रही बाहुबलियों की गैंग, वांटेड्स के हर दिन बदले रहे बैरक

जबलपुरJul 11, 2024 / 12:45 pm

Lalit kostha

Gangsters

Gangsters

जबलपुर . जेल में बंद दुर्दांत अपराधी गैंग बनाने की कोशिश में लगे रहते हैं। उनकी गतिविधियां संदिग्ध होने पर जेल प्रशासन ने ऐसे बंदियों की निगरानी बढ़ा दी है। अब हर रोज उनकी बैरक बदली जा रही है। उन्हें अलग-अलग खण्डों में भेजा जा रहा है। ऐसे बंदियों को सलाखों में रखा जाता है। जेल प्रहरी हर वक्त उन पर नजर रखते हैं। सेंट्रल जेल में ऐसे 12 से 15 बंदी है, जिन्हें जेल प्रशासन ने संदिग्ध गतिविधियों के चलते निगरानी में रखा है। उनकी मुलाकात पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है।

CentralJail केंद्रीय जेल में व्यवस्थाएं और अपराध सुधारने के लिए किए बदलाव

Gangsters
बसंत कटनी जेल से फरार हो गया था। उसे काफी मशक्कत के बाद पुलिस ने पकड़ा। जिसके बाद उसे जबलपुर जेल भेजा गया। इसके भी भागने की आंशका है। वहीं गैंगस्टर छोटू चौबे का गुर्गा अमन जेल में गैंग बनाने का प्रयास कर रहा था। राहुल चाइना ने स्टाफ से अभद्रता की और एनएसए के तहत जेल भेजे गए पिन्टू अन्ना द्वारा भी जेल के भीतर बंदियों और प्रहरियों से गलत बर्ताव किया गया। इसके चलते इन्हें भी निगरानी में रखा गया है।
Gangsters
केस 01
हिस्ट्रीशीटर किशोर तिवारी उर्फ किस्सू ने कोतवाली थाना क्षेत्र से राजू सोनी का अपहरण किया। उसे कटनी ले गया। मारपीट की और फिर जंगल में एक पेड़ से बांधकर उस पर पेट्रोल डाला और आग लगा दी। वह कई मामलों में फरार था।
केस 02
आंध्रप्रदेश निवासी नक्सली अशोक सत्या रेड्डी पर डेढ़ लाख रुपए से अधिक का इनाम था। उसे अस्पताल में उपचार करवाते हुए पकड़ा गया था। तब से वह सेन्ट्रल जेल में बंद है। पुलिस का कहना है कि वह षड्यंत्र में माहिर है।
केस 03
सिविल लाइंस के मिलेनियम कॉलोनी में रहने वाले मुकुल सिंह ने कॉलोनी में ही रहने वाले रेलवे में पदस्थ राजकुमार विश्वकर्मा और उनके आठ वर्षीय बेटे तनिष्क की निर्मम हत्या कर दी थी। जून के पहले सप्ताह से वह जेल में है।
जेल के भीतर यदि कोई बंदी गड़बड़ी करता है या उसका आचरण सही नही रहता है, तो उसे निगरानी में रखा जाता है। उसकी मुलाकात जहां बंद कर दी जाती है, वहीं हर रोज उसकी बैरक भी बदली जाती है।
अखिलेश तोमर, जेल अधीक्षक, सेन्ट्रल जेल

Hindi News/ Crime / Gangsters : जबलपुर जेल में बन रही बाहुबलियों की गैंग, वांटेड्स के हर दिन बदले रहे बैरक

ट्रेंडिंग वीडियो