अजमेर बम ब्लास्ट: गुजरात से अरेस्ट हुआ सुरेश नायर, विस्फोटक सामग्री सप्लाई करने में था हाथ

आपको बता दें कि 2007 में हुए अजमेर शरीफ बम धमाकों में तीन लोगों की मौत हो गई थी, जबकि इस हमले में 17 लोग घायल हो गए थे।

By: Kapil Tiwari

Published: 25 Nov 2018, 06:41 PM IST

नई दिल्ली। साल 2007 अजमेर दरगाह बम ब्लास्ट मामले में गुजरात एटीएस को एक बड़ी कामयाबी मिली है। दरअसल, गुजरात एटीएस के अधिकारियों ने इस मामले में एक आरोपी को गुजरात के भरुच से गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपी की पहचान सुरेश नायर के रूप में हुई है। सुरेश नायर पर बम सप्लाई करने का आरोप लगा है।

2 लाख का ईनामी भगोड़ा गिरफ्तार

भगोड़े सुरेश नायर को लेकर गुजरात एटीएस को ये जानकारी मिली थी कि वो शुक्लतीर्थ के लिए नर्मदा नदी के किनारे जा रहा है। सुरेश नायर पर अजमेर शरीफ में धमाके करने के लिए बम सप्लाई करने का आरोप लगा है। एनआईए ने सुरेश नायर पर 2 लाख रुपए का ईनाम भी घोषित किया हुआ था। सुरेश नायर के अलावा इस मामले में संदीप डांगे और रामचंद्र भी अन्य आरोपी हैं।

3 लोग मारे गए थे अमजेर बम ब्लास्ट में

आपको बता दें कि 2007 में हुए अजमेर शरीफ बम धमाकों में तीन लोगों की मौत हो गई थी, जबकि इस हमले में 17 लोग घायल हो गए थे।

एनआईए कोर्ट ने दो को सुनाई थी उम्रकैद की सजा

अजमेर बम ब्लास्ट में इससे पहले उम्र कैद की सजा पाने वाले दो दोषियों में से एक भावेश पटेल को सितंबर 2018 में राजस्थान हाईकोर्ट से जमानत मिल गई थी। भरूच में घल लौटने पर उसका किसी हीरो की तरह स्वागत किया गया था, जबकि पिछले साल मार्च में राजस्थान के जयपुर स्थित स्पेशल एनआईए कोर्ट ने पटेल (40) व देवेंद्र गुप्ता (42) को उम्रकैद की सजा सुनाई थी।

ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह में हुआ था धमाका

आपको बता दें कि 11 अक्टूबर 2007 को अजमेर स्थित दरगाह ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती परिसर में बम धमाका हुआ था। अजमेर शरीफ में यह घटना इफ्तार से ठीक पहले हुई थी। रमजान के महीने में तब नमाज खत्म ही हुई थी और नमाजी रोजा खोलने के लिए परिसर में जुटे थे। अचानक उसी दौरान एक बम धमाका हो गया था।

Kapil Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned