गुजरात के पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट पुलिस की हिरासत में, लगे गंभीर आरोप

गुजरात के पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट पुलिस की हिरासत में, लगे गंभीर आरोप

Mohit sharma | Publish: Sep, 05 2018 02:04:12 PM (IST) क्राइम

मादक पदार्थ से जुडे़ एक मामले में गुजरात पुलिस ने बुधवार को पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को हिरासत में ले लिया।

अहमदाबाद। मादक पदार्थ से जुडे़ एक मामले में गुजरात पुलिस ने बुधवार को पूर्व आईपीएस अधिकारी संजीव भट्ट को हिरासत में ले लिया। पूर्व आईपीएस भट्ट को 1998 में एक आपराधिक मामले में झूठे तरीके से एक वकील को फंसाने से जुड़े मामले में पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। गुजरात सीआईडी ने गुजरात उच्च न्यायालय के निर्देश के बाद भट्ट को हिरासत में लिया। आपको बता दें कि इससे पहले संजीव भट्ट को गुजरात की सीआईडी क्राइम पूछताछ के लिए ले गई थी।

अगली जनगणना 2021 में होगा ओबीसी आंकड़ों का संकलन, जुटेंगे 25 लाख कर्मचारी

 

तेदेपा संस्थापक के बेटे अभिनेता एन.हरिकृष्णा की सड़क दुर्घटना में मौत, डिवाइडर से टकराई कार

सीआईडी ने दो पूर्व पुलिस अधिकारियों सहित छह अन्य लोगों को भी हिरासत में लिया है। सूत्रों ने कहा कि इन सभी से पूछताछ हो रही है और इसके बाद उन्हें गिरफ्तार किया जा सकता है। संजीव भट्ट जब उत्तर गुजरात के बनासकांठा में पुलिस अधीक्षक के रूप में सेवाएं दे रहे थे तो उन पर नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंट (एनडीपीएस) तहत एक फर्जी मामले में एक वकील को फंसाने का आरोप है। भट्ट को भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) से 2015 में बर्खास्त कर दिया गया। संजीव भट्ट ने 2011 में मोदी पर 2002 के दंगों में शामिल होने का आरोप लगाते हुए सर्वोच्च न्यायालय में एक हलफनामा दायर किया था।

बिहार: बोधगया में भिक्षु पर बच्चों के यौन शोषण का आरोप, पुलिस ने किया गिरफ्तार

आपको बता दें कि 1988 बैच के आईपीएस संजीव भट्ट को गुजरात सरकार ने बर्खास्त कर दिया गया है। पूर्व आईपीएस भट्ट पर अहमदाबाद में सरकारी गाड़ी और पुलिस कमांडो का इस्तेमाल करने का आरोप लगा था। आपको बता दें कि पूर्व आईपीएस गुजरात दंगों के संदर्भ में पीएम नरेंद्र मोदी के विरोध को लेकर काफी चर्चा में रहे हैं। हालांकि गुजरात सरकार इस बर्खास्तगी के पीछे अनुशासनहीनता को कारण बता रही है।

 

Ad Block is Banned