घाटी में सुरक्षाबलों का बड़ा कारनामा, तीन दशक बाद त्राल से हिजबुल मुजाहिदीन का सफाया

  • त्राल इलाके ( tral encounter ) में रात भर चली मुठभेड़ ( Security Forces encounter ) में तीन आतंकी ढेर।
  • पुलिस ( jammu and kashmir police ) ने किया 31 साल बाद इस सफलता को हासिल करने का दावा।
  • हिजबुल ( hijbul mujahidin ) के टॉप कमांडर बुरहान वानी ( Terrorist Burhan Vani ) और जाकिर मूसा ( Militant Zakir Musa ) दोनों ही इस इलाके से थे।

श्रीनगर। जम्मू एवं कश्मीर में सुरक्षाबलों के हाथ बड़ी कामयाबी लगी है। पुलवामा जिले के त्राल ( tral encounter ) में पूरी रात जारी मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ( Security Forces encounter ) ने तीन आतंकवादियों को ढेर कर दिया। जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ( jammu and kashmir police ) ने दावा किया है कि इस मुठभेड़ में मिली सफलता के साथ ही त्राल इलाके से अब सुरक्षाबलों ने हिजबुल मुजाहिदीन ( hijbul mujahidin ) के आतंकियों का सफाया कर दिया है।

Unlock 2.0 की घोषणा 30 जून को! इन जरूरी सेवाओं पर होगा मुख्य फोकस

कश्मीर के इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस ने इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वर्ष 1989 के बाद पहली बार ऐसा कारनामा हुआ है। पुलिस महानिरीक्षक (आईजीपी) कश्मीर विजय कुमार ने कश्मीर पुलिस के एक ट्वीट में कहा, "आज के (ऑपरेशन) के बाद, त्राल इलाके में एचएम ( हिजबुल मुजाहिदीन ) आतंकियों की मौजूदगी नहीं है। 1989 के बाद पहली बार ऐसा हुआ है।"

दरअसल घाटी में आतंकवाद फैलने के बाद कश्मीर में हिजबुल मुजाहिदीन का दबदबा था क्योंकि आतंकवाद को चरम पर पहुंचाने के लिए कई हजार कैडर थे। घाटी में बुरहान वानी ( Terrorist Burhan Vani ) और जाकिर मूसा ( Militant Zakir Musa ) जैसे संगठन के कई शीर्ष कमांडर त्राल इलाके के ही थे।

'पीएम मोदी बिना डरे-बिना घबराए बोलें कि चीन ने जमीन ली है और हम कार्रवाई करेंगे'

वहीं, भारतीय सेना के प्रवक्ता ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया, "चीवा (पुलवामा) में चले अभियान के तहत तीन आतंकियों को ढेर कर दिया गया। आतंकियों के कब्जे से दो एके राइफल बरामद की गई हैं।"

जानकारी के मुताबिक दक्षिण कश्मीर जिला स्थित त्राल के चीवा उलार इलाके में गुरुवार को आतंकियों की मौजूदगी की सूचना मिली थी। इसके बाद इलाके की घेराबंदी करके तलाशी अभियान शुरू कर दिया गया।

एक सेक्टर आरआर के ब्रिगेडियर वी महादेवन ने बताया कि तलाशी के दौरान आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू कर दी, जिसके बाद यह अभियान मुठभेड़ में तब्दील हो गया। जवाबी कार्रवाई में सुरक्षाबलों ने भी फायरिंग की। सुरक्षाबलों ने आतंकियों से आत्मसमर्पण की भी अपील की, लेकिन उन्होंने नहीं मानी।

चीन की धोखेबाजी से सावधान, पेट्रोलिंग 14 चौकी से अब तक नहीं उखाड़े टेंट!

उन्होंने आगे कहा कि इसके बाद आतंकी भागने लगे तो सुररक्षाबलों ने उन्हें फरार होने से रोकने के लिए पूरे इलाके की घेराबंदी कर दी और रातभर सख्त पहरे के साथ मुठभेड़ जारी रही। शुक्रवार सुबह तक जारी मुठभेड़ में तीन आतंकवादी ढेर कर दिए गए। इस मुठभेड़ के दौरान कोई भी नागरिक घायल नहीं हुआ।

अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned