कर्नाटक: गौरी लंकेश हत्या मामले में एसआईटी ने एक और आरोपी को हिरासत में लिया

कर्नाटक: गौरी लंकेश हत्या मामले में एसआईटी ने एक और आरोपी को हिरासत में लिया

Dhirendra Mishra | Publish: Sep, 09 2018 02:54:31 PM (IST) क्राइम

सतारा के रहने वाले गोंधलेकर ने गौरी लंकेश की हत्या में अपनी भूमिका की बात कबूल कर ली है।

नई दिल्ली। कर्नाटक की निर्भीक पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश की हत्या के मामले की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) ने एक और व्यक्ति को हिरासत में लिया है। जानकारी के मुताबिक हिरासत में लिए गए व्‍यक्ति को महाराष्ट्र आतंकवाद रोधी दस्ते (एम-एटीएस) ने विस्फोटकों के एक बड़े जखीरे की जब्ती के सिलसिले में अगस्त में गिरफ्तार किया था। आरोपी का नाम सुधन्वा गोंधलेकर है। उसे महाराष्‍ट्र एटीएस ने पुणे में गिरफ्तार किया था। एटीएस ने उसे गौरी लंकेश मामले को लेकर गठित विशेष जांच दल को सौंप दिया है। एसआआईटी ने आरोपी को ट्रांजिट रिमांड पर लेने के बाद पूछताछ जारी है।

गोंधलेकर ने कबूली हत्‍या की बात
विशेष जांच दल (एसआईटी) ने गोन्धलेकर को स्थानीय अदालत में पेश किया। अदालत ने आरोपी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। गोन्‍धलेकर को हिरासत में लेने के साथ ही इस मामले में अब तक 14 संदिग्धों को गिरफ्तार किया जा चुका है। एसआईटी सूत्रों के मुताबिक महाराष्ट्र के सतारा के रहने वाले गोंधलेकर ने लंकेश की हत्या में अपनी भूमिका की बात कबूली है।

एटीएस ने अगस्‍त में किया था गिरफ्तार
महाराष्ट्र पुलिस के एटीएस ने अगस्त में सुधन्‍वा गोंधलेकर को पुणे से गिरफ्तार किया था। उसके साथ ही एक दक्षिणपंथी हिंदुत्व संगठन के तीन संदिग्ध सदस्यों को भी गिरफ्तार किया था। उनके पास से विस्फोटकों का बड़ा जखीरा जब्त किया था। जखीरे में देसी बम भी शामिल थे।

अब तक 10 की गिरफ्तारी
आपको बता दें कि 323 दिन से चल रही गौरी लंकेश हत्याकांड की तफ्तीश में 25 जुलाई को भी दो और लोगों की गिरफ्तारी के साथ एक डायरी भी बरामद हुई थी। इस डायरी में कुल 34 लोगों का नाम शामिल हैं जिन्हें मारने की साजिश की गई थी। इन दो संदिग्धों का नाम गणेश मिस्की और अमित राघवेन्द्र है। दोनो संदिग्ध इस केस में किस रूप से संलिप्त है का खुलासा होना बाकी है। एसआईटी ने कथित आरोपियों के पास से एक डायरी बरामद की है। इस डायरी में गौरी लंकेश व थियेटर आर्टिस्ट गिरीश कर्नाड के अलावा कुल 34 लोगों के नाम हैं जिन्हें मारने की साज़िश की गई थी। यह सारे नाम वह हैं जो वर्तमान में सत्ता पर काबिज पार्टी की आलोचना करते हैं।

Ad Block is Banned