मुस्लिम योग गुरु राफिया के घर उपद्रवियों का हंगामा, जान से मारने की मिल रही धमकी

झारंखड की मुस्लिम टीचर राफिया नाज के घर कुछ उपद्रवियों ने हंगामा कर दिया है। इसके पहले राफिया को जान से मारने की धमकी भी मिल चुकी है।

By: Chandra Prakash

Published: 10 Nov 2017, 07:40 PM IST

रांची। झारंखड की मुस्लिम टीचर राफिया नाज के घर कुछ उपद्रवियों ने हंगामा कर दिया है। राफिया के घर के बाहर भारी संख्या में लोग जुट गए और हंगामा शुरु कर दिया। इससे पहले बुधवार को भी कुछ लोगों ने राफिया के घर पर पत्थर बरसाए थे। इतना ही नहीं उनके फेसबुक और मोबाइल पर लगातार धमकियां मिल रही हैं।


घर के बाहर हंगामा
राफिया की सुरक्षा में पहले से ही रांची पुलिस ने दो गार्ड तैनात किए हैं लेकिन हाल ही हुई घटनाओं को पुलिस ने गंभीरता से लिया है। पुलिस अब राफिया के घर पत्थरबाजी करने वालों की तलाश में जुट गई है। पिछले दिनों राफिया के खिलाफ कुछ मुस्मिल संगठनों को योग सिखाने पर फतवा भी जारी किया था।


जारी हुआ फतवा
राफिया का कसूर सिर्फ इतना है कि वो मुस्लिम होकर भी योग सिखाती है। हाल ही में राफिया ने योग गुरु बाबा रामदेव के साथ भी मंच साझा किया था। ये बात कट्टर मुस्लिम संगठनों को नागवार गुजरी है और उन्होंने इस महिला को जान से मारने तक की धमकियां देना शुरू कर दिया। शिया मौलवियों ने महिला के खिलाफ फतवा जारी कर दिया है। वहीं हिंदू संगठनों की तरफ से भी राफिया को नाम बदलने की सलाह मिल रही है।

Rafia Naaz

बाबा रामदेव के साथ किया था मंच साझा
राफिया नाज झारखंड के डोरंडा इलाके में रहती हैं। ये महिला योग सिखाकर अपना गुजर-बसर करती है। राफिया के घर में वो सबसे बड़ी है। राफिया एम.कॉम कर रही हैं और हाल ही में उन्होंने योगगुरू बाबा रामदेव के साथ मंच साझा किया था। उसी के बाद से शिया मौलवी राफिया की जान के दुश्मन बन गए हैं। राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राफिया को पुलिस सुरक्षा मुहैया कराए जाने का आदेश दिया है। एक राफिया को धमकियां दी जा रही हैं कि वो योग ने सिखाए।

राफिया की बढ़ाई गई है सुरक्षा
वहीं राफिया के खिलाफ जारी फतवे में कहा गया है कि महिला ने उनके धर्म का मजाक उड़ाया है और उसे तुरंत योग सिखाना रोकना होगा। मुख्यमंत्री के आदेश पर अमल करते हुए रांची के एसएसपी कुलदीप द्विवेदी ने एक पुलिस दल को लड़की से मिलने के लिए भी भेजा। झारखंड पुलिस के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि लड़की को दो सुरक्षाकर्मी भी उपलब्‍ध कराए गए हैं, जिनमें एक पुरुष और दूसरी महिला है।

'एक कहता है नाम बदल लो, दूसरा कहता है काम बदल लो'
खुद के खिलाफ फतवा जारी होने के बाद राफिया ने हिम्मत दिखाते हुए कहा है कि मैं कट्टरपंथियों की धमकियों से डरने वाली नहीं हूं और इन्हें अनदेखा करते हुए मैं योग सिखाना जारी रखूंगी। राफिया ने कहा कि चाहे इसके लिए मेरी जान ही क्यों न चली जाए। राफिया कहती हैं कि मेरी समस्या दोनों समुदाय के लोगों के साथ है, एक मुझे योग सिखाने पर जान से मारने की धमकी दे रहा है तो दूसरा मुझे अपना नाम बदलने के लिए कहा रहा है ताकि मुझे से कोई योग सिखने में संकोच न करे।

Chandra Prakash Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned