बिहार पुलिस ने रिटायर्ड शिक्षक को कपड़े उतारकर बेटी और पत्नी के सामने पीटा, लोगों में आक्रोश

बिहार पुलिस ने रिटायर्ड शिक्षक को कपड़े उतारकर बेटी और पत्नी के सामने पीटा, लोगों में आक्रोश

prashant jha | Publish: Aug, 12 2018 09:31:48 AM (IST) क्राइम

पीड़ित सचेन्द्र भगत ने बताया कि उन्होंने इस घटना की शिकायत पटना जाकर डीजीपी से भी की है। डीजीपी ने मामले की जांच कराकर कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

पटना: बिहार पुलिस का बर्बर चेहरा एक बार फिर सामने आया है। पुलिस पर एक शिक्षक को बेपर्दा कर बुरी तरह पीटने का मामला सामने आया है। मधेपुरा जिले के गम्हरिया थाना क्षेत्र में पुलिस ने एक रिटायर्ड शिक्षक को कर उसके घरवालों के सामने कपड़े उतारक बुरी तरह पीटा है। पुलिस ने सेवानिवृत शिक्षक सचेन्द्र भगत को लात-घूंसो और बंदूक की बट से बेदम पीटाई की। घटना की सूचना पाकर आसपास के लोग सचेन्द्र भगत के घर पहुंचे तो पुलिस की बेरहमी देखकर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और लोगों ने पुलिस को खदेड़ दिया। पुलिस किसी तरह वहां से निकल गई। पुलिस के खिलाफ लोगों में भारी आक्रोश है।

ये भी पढ़ें : मुजफ्फरपुर: नोटबंदी के 16 महीने बाद SSP विवेक कुमार के घर से मिले 45 हजार के पुराने नोट

गम्हरिया थाना प्रभारी पर पैसे वसूलने का आरोप

पीड़ित सचेन्द्र भगत के मुताबिक गम्हरिया थानाध्यक्ष राजेश कुमार दलालों से घिरे रहते हैं। सचेन्द्र भगत ने बताया कि दलाल पुलिस के नाम पर वसूली करते हैं। जब इसकी शिकायत उन्होंने थानाध्यक्ष से की तो इस बात से थानाध्यक्ष नाराज हो गए और स्थानीय दलालों के साथ मिलकर मेरे ऊपर फर्जी मुकदमा दर्ज करवा दिया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सचेन्द्र भगत ने बताया कि 5 अगस्त की रात पुलिस उनके घर में घुस गई और फिर कपड़े उतारकर मेरी पत्नी, बेटी और अन्य परिजनों के सामने बेरहमी से पीटते रहे। बेटी और पत्नी जब मुझे बचाने आए तो पुलिस ने उनके साथ भी बदसलूकी की।

पीड़ित ने वरिष्ठ अधिकारियों से की शिकायत

पीड़ित सचेन्द्र भगत ने बताया कि उन्होंने इस घटना की शिकायत पटना जाकर डीजीपी से भी की है। डीजीपी ने मामले की जांच कराकर कार्रवाई का आश्वासन दिया है। इसके साथ साथ पीड़ित ने मानवाधिकार आयोग से भी शिकायत की है और बिहार सरकार के मुख्य सचिव को इसकी जानकारी दी है। मधेपुरा के एसपी का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। जांच में दोषी पाए जाने पर कार्रवाई की जाएगी।

Ad Block is Banned