केरल रेप मामले में शिकंजे में दूसरा पादरी, पुलिस 2 और पादरियों को कर रही तलाश

केरल रेप मामले में शिकंजे में दूसरा पादरी, पुलिस 2 और पादरियों को कर रही तलाश

prashant jha | Publish: Jul, 13 2018 06:27:56 PM (IST) क्राइम

मामले में पीड़ित महिला के पति ने पांच पादरियों पर करीब एक दशक से अपनी पत्नी का यौन शोषण करने का आरोप लगाया था।

तिरुवनंतपुरम: केरल में दुष्कर्म के चार आरोपी पादरियों में से दूसरे आरोपी पादरी जॉन्सन वी. मैथ्यू को यहां पास के एक स्थान से गिरफ्तार कर लिया गया है। इन पादरियों पर एक महिला से दुष्कर्म का आरोप है। पुलिस ने शुक्रवार को बताया कि यह इस मामले में दूसरी गिरफ्तारी है। मामले में पीड़ित महिला के पति ने पांच पादरियों पर करीब एक दशक से अपनी पत्नी का यौन शोषण करने का आरोप लगाया था। मैथ्यू को केरल की अपराध शाखा ने कोझेनचेरी के एक घर से हिरासत में लिया। उनसे अपराध शाखा कार्यालय में पूछताछ हो रही है।पुलिस ने गुरुवार को फादर जॉब मैथ्यू को गिरफ्तार किया था और उन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

गुरुवार को एक पादरी को किया था गिरफ्तार

इससे पहले शुक्रवार को अपराध शाखा ने किसी को भी आरोपियों को बचाने की कोशिश नहीं करने की चेतावनी जारी की। इसके चंद घंटों बाद मैथ्यू को हिरासत में लिया गया। कोच्चि में उच्च न्यायालय द्वारा बुधवार को शिकायत में नामजद तीन पादरियों की अग्रिम जमानत को खारिज किए जाने के बाद पादरियों की गिरफ्तारी तय हो गई। महिला नियमित तौर पर मलंकारा आर्थोडॉक्स चर्च जाती थी। उसने आरोप लगाया है कि पिछले एक दशक से पांच पादरियों ने उसका यौन शोषण किया है। महिला के पति ने शिकायत की कि इन पादरियों में से एक उसकी पत्नी को ब्लैकमेल कर रहा था। इस पादरी ने सबसे पहले महिला का यौन शोषण किया था।

राष्ट्रीय महिला आयोग भी कर रहा निगरानी

पुलिस अधिकारी ने कहा कि राष्ट्रीय महिला आयोग मामले की निगरानी कर रहा है। एक पादरी कार्रवाई से बच गया, क्योंकि पीड़िता ने सिर्फ चार नामों का उल्लेख किया था।ऐसी खबरें हैं कि वर्तमान में फरार चल रहे दो पादरी गिरफ्तारी से राहत के लिए सर्वोच्च न्यायालय से संपर्क की कोशिश में हैं। लेकिन इससे पहले केरल हाईकोर्ट ने चारों पादरियों की अग्रमि जमानत याचिका खारिज कर दिया है।

एक दशक से कर रहे थे यौन शोषण

महिला नियमित तौर पर मलंकारा आर्थोडॉक्स चर्च जाती थी। उसने आरोप लगाया है कि पिछले एक दशक से पांच पादरियों ने उसका यौन शोषण किया है। महिला के पति ने शिकायत की कि इन पादरियों में से एक उसकी पत्नी को ब्लैकमेल कर रहा था। इस पादरी ने सबसे पहले महिला का यौन शोषण किया था। महिला ने जब अन्य पादरी से मदद मांगी तो उन्होंने भी उसे धमकी दी और इस बात को साथी पादरी से साझा कर दिया। इसके बाद पांचों पादरियों ने उसका यौन शोषण किया। राष्ट्रीय महिला आयोग द्वारा मामले की निगरानी करने के बाद पुलिस पर दबाव बढ़ा और उसके बाद चार पादरी यौन शोषण के लिए आरोपित किए गए।

Ad Block is Banned