मां पूर्णागिरि दर्शन के लिए पैदल जा रहे तीर्थयात्रियों को ट्रक ने कुचला, 10 की मौत और 15 घायल

मां पूर्णागिरि दर्शन के लिए पैदल जा रहे तीर्थयात्रियों को ट्रक ने कुचला, 10 की मौत और 15 घायल

Shweta Singh | Publish: May, 18 2018 12:01:29 PM (IST) क्राइम

यह दुर्घटना शुक्रवार सुबह लगभग पौने पांच बजे टनकपुर के पास हुई।

देहरादून। उत्तराखंड स्थित मां पूर्णागिरि मंदिर के दर्शन के लिए पैदल जा रहे तीर्थयात्रियों को एक अनियंत्रित ट्रक ने कुचल दिया। इसके चलते मौके पर ही 10 श्रद्धालुओं की मौत हो गई और 15 से अधिक घायल हो गए। जानकारी के मुताबिक यह दुर्घटना शुक्रवार सुबह लगभग पौने पांच बजे टनकपुर के पास हुई।

घटना में इन लोगों की मौत

चीखों की आवाज सुनकर स्थानीय निवासी मदद के लिए घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने ही हादसे की सूचना पुलिस को दी। इस दुर्घटना में मरने वाले अधिकतर लोग नवाबगंज के निवासी थे। इस दुर्घटना के मृतकों की पहचान वीर सिंह (18 वर्ष) पुत्र अंगद लाल निवासी ग्राम उलेतापुर, बहेड़ी, सोनू (18 वर्ष) पुत्र माखन लाल निवासी बुखारपुर नवाबगंज, विशाल (17 वर्ष) पुत्र अज्ञात निवासी सहलपुर, हाफिजगंज, रामकुमार (16 वर्ष) पुत्र नन्हे सिंह निवासी बुख़ारपुर, नवाबगंज, दीनदयाल (35 वर्ष) पुत्र फोतिराम निवासी बुखारपुर, नवाबगंज, बाबू (12 वर्ष) पुत्र माखन लाल निवासी बुखारपुर, नवाबगंज, केशर सिंह (16 वर्ष) पुत्र रूपकरण निवासी बिहारीपुर, बहेड़ी, रामस्वरूप (40 वर्ष) पुत्र नाथूलाल निवासी बुखारपुर, नवाबगंज, सोहन (40वर्ष) पुत्र नाथूलाल निवासी बुखारपुर, नवाबगंज के रूप में हुई है।

चीन में मुसलमानों को जबरदस्ती खिलाया जा रहा है वर्जित मांस और शराब, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

चार लोगों की हालत गंभीर

हादसे में हुए घायलों को टनकपुर के सरकारी अस्पताल पहुंचाया गया। साथ ही हादसे में चार लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही थी, जिसके चलते हुए उन्हें हायर सेंटर रेफर किया गया।

बिचई में हुआ हादसा

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार तीर्थयात्रियों का यह दल रात में आराम करने के बाद सुबह-सुबह चक्रपुर से टनकपुर की तरफ रवाना हुआ था। इस दौरान बिचई में सेल टैक्स ऑफिस के पास तेजी से आता ट्रक बेकाबू हो गया और श्रद्धालुओं को कुचल दिया। स्थानीय लोगों से हादसे की जानकारी मिलने पर पुलिस व रेस्क्यू टीम बचाव कार्य के लिए तत्काल मौके पर पहुंची।

पूर्णागिरि मंदिर का महत्व

पूर्णागिरि मंदिर उत्तराखंड के टनकपुर में अन्नपूर्णा शिखर पर 5,500 फीट की ऊंचाई पर स्थित 108 सिद्ध पीठों में से एक है। यह स्थान महाकाली की पीठ माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि दक्ष प्रजापति की कन्या और भगवान शिव की अर्धांगिनी सती की नाभि का भाग यहां पर भगवान विष्णु के चक्र से कट कर आ गिरा था। इसके बाद से इस शक्ति पीठ की यात्रा करने श्रद्धालु आते रहते हैं।

Ad Block is Banned