पंजाब में महिलाएं खुलेआम बांट रही मौत, ड्रग्स तस्करी के धंधे में है सबसे आगे

दरअसल पंजाब में ड्रग्स कारोबार चरम है। दो तिहाई से ज्यादा लोग ड्रग्स के नशे की जद में हैं। आज गांवों से शहरों में और शहरों से दूसरे जिलों मे नशा महिलाओं के जरिए पहुंच रहा है।

By: Prashant Jha

Published: 24 Jul 2018, 07:16 PM IST

नई दिल्ली: यहां की महिलाएं मौत बांटती है । ये महिलाएं जीते जी मार रही है। किचन छोड़कर मौत बांटने का धंधा चला रही हैं।जी हां यह बात सुनने में आपको अटपटी लगेगी , लेकिन ये सच है। पंजाब में अब पुरुषों के बाद महिलाओं ने इस गोरखधंधे में कदम रख दिया है। काफी संख्‍या में यहां की महिलाएं ड्रग्स तस्करी का धंधा चला रही है। हालांकि पुलिस इन महिलाओं पर सख्ती बरत रही है।

नशे के जद में पंजाब के युवा

दरअसल पंजाब में ड्रग्स कारोबार चरम है। दो तिहाई से ज्यादा लोग ड्रग्स के नशे की जद में हैं। आज गांवों से शहरों में और शहरों से दूसरे जिलों मे नशा महिलाओं के जरिए पहुंच रहा है। पुरुषों के अलावा अब महिलाओं ने इस धंधे में काम शुरू कर दिया है।

ड्रग्स धंधे में पकड़े जाने वाले पुरुषों के बाद महिलाओं ने शुरू किया कारोबार

ये वे महिलाएं हैं जिनके पति और बेटे नशे का धंधा करते थे या वे नशे की भेंट चढ़ गए या पकड़े गए हैं। इसके बाद अपने गुजारे के लिए इन महिलाओं ने भी इस धंधे को शुरू कर दिया है। इन महिला तस्‍करों ने पुलिस के भी होश उड़ा दिए हैं। पुलिस के लिए भी समस्‍या पैदा हो गई है। इस कारण अब पुलिस नाकों पर म‍हिला कर्मियों की संख्‍या में बढ़ा दी गई है। लुधियाना जिले में ही पिछले दो महीने में करीब 18 महिलाएं नशा तस्करी के मामले में पकड़ी गई हैं। पुलिस के मुताबिक इन महिलाओं के लिंक दिल्ली में बैठे नशे के बड़े सौदागर तक हैं। नाइजीरियाई के तस्करों तक इनकी पुहंच हैं।

बड़ी संख्या में पुलिस ने महिलाओं को किया गिरफ्तार

पुलिस के मुताबिक अभी तक पकड़ी गई महिलाओं में सभी के पति या फिर बेटे नशे के सौदागर से जुड़े हुए हैं। उनके जेल में जाने से घर खर्च चलाने के लिए महिलाएं तस्करी में जुट गई हैं। बताया जा रहा है कि महिलाओं को ड्रग्स तस्‍करी करने में कोई दिक्कत नहीं हुई। क्योंकि तस्करी के लिंक पहले ही पता थे, और ड्रग्‍स की डिलीवरी शुरू कर दी। इस तरह वह मोटी कमाई कर रही हैं और लोगों में मौत बांट रही है।

ऐसे चलता है तस्करी का खेल

ये महिलाएं दिल्ली में बैठे बड़े नाइजीरियाई तस्कर से जुड़ी। इस तस्‍करों से एक कोड मिलता है। पुरुषों के जेल जाते हैं तो वे किसी जरिये घर की महिलाओं को यह कोड दे देते हैं। इसके बाद इस कोड के जरिये इन महिलाओं के लिंक नाइजीरियाई तस्‍करों से जुड़ जाते हैं। इसके बाद वे आसानी से नशा लेकर गांवों से शहर और शहर से गांवों में आती-जाती हैं।

महिलाएं प्राइवेट पार्ट्स में छिपाकर ले जाती हैं ड्रग्‍स

पुलिस के मुताबिक महिलाएं बड़े होशियारी से तस्करी के खेल को अंजाम देती हैं। महिलाओं पर लोग कम ही शक करते हैंय़ लिहाजा वे आसानी से तस्करी करती हैं। वे अपने प्राइवेट पार्ट्स में ड्रग्‍स छिपाकर ले जाती है, ताकि किसी को शक न होने पाए। ऐसे कई मामले पुलिस ने पकड़े हैं। महिला मुलाजिमों ने उनकी चेकिंग की तो उन्हें नशा बरामद हुआ है। इसके साथ ही वे खुद के वाहन का इस्तेमाल करने की बजाए बस व आटो में आ-जा रही है, ताकि नाके पर उनकी चेकिंग न हो सके

पुलिस ने भी की सख्ती

महिलाओं के तस्करी में शामिल होने के बाद पुलिस ने सख्ती शुरू कर दी। नाकों पर महिला पुलिसकर्मी को तैनात कर दिया गया है। नाकों पर दिन व रात दोनों समय महिला पुलिसकर्मी भी तैनात रहती हैं। इससे महिलाओं तस्‍करों से निपटने में मदद मिल रही है।

Prashant Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned