आंगनबाड़ी भवन एक साल बाद भी नही बन पाए

आंगनबाड़ी भवन एक साल बाद भी नही बन पाए
आंगनबाड़ी भवन एक साल बाद भी नही बन पाए

Sanjay Singh Tomar | Updated: 11 Oct 2019, 10:30:00 AM (IST) Dabra, Gwalior, Madhya Pradesh, India

चार भवनों में से केवल एक निर्मित नहीं, तीन अधूरे

 

डबरा. एक साल पहले जो भवन बनना शुरू हुए थे वे अब तक अधूरे पड़े है। अगर ये बन गए होते तो इनमें आंगनबाड़ी केन्द्र संचालित हो रहे होते। इस वजह से ये केन्द्र किराए के भवनों में संचालित किए जा रहे हैं। कुल चार भवन बनने थे जिनमें से तीन भवनों का निर्माण अधूरा है जबकि एक भवन की अभी तक नींव तक नहीं रखी गई है।

कलेक्टर के आदेश से एक वर्ष पूर्व राजस्व विभाग एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सुपरवाइजर और पटवारी की टीम द्वारा निरीक्षण किया गया था और उसके बाद वार्ड नंबर 1-2 एवं वार्ड नंबर 6 -7 वार्ड नंबर 8 -9 एवं वार्ड नंबर 13 -14 में आंगनबाड़ी भवन बनाए जाने के लिए जमीन चिह्नित की गई थी। जिनमें एक आंगनबाड़ी भवन 7 लाख 8 0हजार रुपए से बनाया जाना था। कुल मिलाकर चारों भवनों पर लगभग 32 लाख रुपए खर्चकर भवन बनाए जाने थे। वार्ड 7 में तहसील के पीछे वार्ड 1 में पशु अस्पताल के पास ओर वार्ड 14 में भवन बनाए जाने के लिए ठेकेदार द्वारा निर्माण कार्य शुरू भी करा दिया गया लेकिन लेकिन एक साल बाद भी ये भवन पूरी तरह नहीं बन पाए हैं काम अभी भी अधूरा है।

महिला बाल विकास एवं ठेकेदार की लापरवाही के कारण यह कार्य काफी धीमी गति से चल रहा है जिससे बच्चे जर्जर भवनों में एवं किराए के भवनों में पढऩे को मजबूर है । पिछोर में कुल छह आंगनबाड़ी केंद्र संचालित हैं जिनमें से दो शासकीय भवनों में संचालित किए जा रहे हैं शेष चार आंगनवाड़ी केंद्र किराए के भवनों में या फिर पुरानी भवनों में संचालित किए जा रहे हैं जिसमें खेलने के लिए बच्चों को ना तो खेल का मैदान है ना ही स्वच्छ हवा मिलती है। एक कमरे में आंगनवाड़ी केंद्र संचालित हैं जिसमें उनका राशन भी रहता है और उन्हें मिलने वाली सामग्री भी उसी कमरे में रहती है । यदि भवनों का निर्माण समय पर हो जाता तो बच्चों को खेलने के लिए मैदान होता और पानी पीने के लिए बोरिंग भी होती जिससे बच्चे सभी सुविधाओं से परिपूर्ण होकर अपनी पढ़ाई कर सकते एवं खेल सकते।

दो आंगनबाड़ी केंद्र बनकर होंगे तैयार

नगर में 2 आंगनबाड़ी केंद्र वार्ड नंबर 7 एवं वार्ड नंबर 1 में बनकर तैयार होंगे लेकिन शेष 2 आंगनबाड़ी केंद्र अभी भी बनना मुश्किल दिखाई दे रहे हैं क्योंकि वार्ड नंबर 14 में जो आंगनबाड़ी भवन बनाया जा रहा था उसमें समीप में रहने वाले लोगों द्वारा आपत्ति लगा दी गई है जिस कारण उसका काम रुका हुआ है तथा वार्ड नंबर 8 में नांदिया दरवाजे के पास मीट मार्केट के पास निर्धारित थी लेकिन जगह कम जगह होने के कारण निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पाया है।

इनका है कहना
हमने कई बार ठेकेदार को फोन लगाया लेकिन उनके द्वारा फोन रिसीव नहीं किया जाता था । वार्ड में आंगनबाड़ी केंद्र में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है आंगनवाड़ी केंद्र का कार्य अधूरा कई वर्षों से पड़ा हुआ है।
शबनम बेगम, पार्षद वार्ड 7

रेत नहीं मिल रही थी इस कारण आंगनबाड़ी केन्द्र भवनों का कार्य रुक गया था । लगभग 1 माह के अंदर कार्य पूर्ण कर महिला बाल विकास को आंगनबाड़ी केन्द्र भवन सौंप दिए जाएंगे।
योगेन्द्र सिकरवार, ठेकेदार

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned