किसान आंदोलन के दौरान मृत किसान के सम्मान में निकाली तिरंगा यात्रा

मंडी गेट पर श्रद्धांजलि सभा के बाद एसडीएम कार्यालय पहुंचकर कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग को लेकर राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा

 

By: rishi jaiswal

Published: 06 Jan 2021, 10:54 PM IST


डबरा. कृषि कानूनों के खिलाफ पलवल बार्डर पर धरने के दौरान अपनी जाम गंवाने वाले चीनोर क्षेत्र के ग्राम पंचायत मैना के किसान सुरेन्द्र सिहं सिद्धू के सम्मान में डबरा व भितरवार अंचल के किसानों ने बुधवार को शहर में तिरंगा यात्रा निकाली। इस यात्रा में बड़ी संख्या में किसान शामिल हुए। तिरंगा यात्रा विभिन्न मार्गों से होते हुए एसडीएम कार्यालय पहुंची जहां किसानों ने एसडीएम प्रदीप शर्मा को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपकर सिद्धू को शहीद का दर्ज दिए जाने, तीन कृषि कानूनों के वापस लेने की की मांग की।


दिल्ली में किसानों के आंदोलन को समर्थन करने डबरा-भितरवार के किसानों का संगठित कर दल के साथ गए चीनोर तहसील की ग्राम पंचायत मैना के पूर्व सरपंच व फार्म नंबर 7 निवासी किसान सुरेन्द्र सिंह सिद्धू का पलवल बार्डर पर धरने पर बैठने के दौरान 3 जनवरी की रात को बीमार के चलते निधन हो गया। इससे यहां के किसानों में केन्द्र सरकार के खिलाफ रोष है। किसानों ने सिद्धू को श्रद्धाजंलि देने व उनके सम्मान में बुधवार को तिरंगा यात्रा का आयोजन किया। किसान कृषि मंडी गेट पर एकत्रित हुए यहां श्रद्धाजंलि सभा हुई। किसानों ने सिद्धू के चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित किए तथा कृषि कानूनों पर केन्द्र सरकार के हठधर्मिता वाले रूख की कड़ी आलोचना की।

श्रद्धाजंलि सभा के बाद बड़ी संख्या में किसानों ने हाथों में तिरंगा थामे हुए यात्रा निकाली। यह यात्रा मंडी गेट से शुरू हुई तथा अंबेडकर तिराहा, शुगर मिल गेट, कटिराया चौराहा, रेलवे ओवरब्रिज, अग्रसेन चौराहा, सुभाषगंज होते हुए एसडीएम कार्यालय पहुंची। एसडीएम कार्यालय पर किसानों ने किसान एकता जिंदाबाद, सिद्धू अमर रहे नारे लगाए। इसके बाद एसडीएम प्रदीप शर्मा को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में तीनों कानून आवश्यक वस्तु भंडारण अधिनियम 2020, कांट्रेक्ट फामिंग और कृषि उत्पाद एवं वाणि’य कानून वापस लेने की मांग की। सौंपने वाले किसानों में राज रावत, कृष्णादेवी रावत, सुरेन्द्र सिंह रावत, कुलदीप बघेल, रजविंदर सिंह, मलिक सरदार, निशान सिंह सरदार, मतेन्द्र सिंह रावत,हरजेन्द्र सिंह रावत, पुष्पेंद्र गुर्जर, राजकुमार रावत. परमाल सिंह आदि शामिल थे।

सभा में महिला किसान ने की सरकार की खिंचाई
मंडी गेट पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा में शामिल महिला किसान कृष्णादेवी ने केन्द्र सरकार की जमकर खिंचाई की। उन्होंने कहा कि भाजपा की केन्द्र सरकार लोक तंत्र की हत्या कर रही है। ये प्रजातंत्र है कोई राजतंत्र नहीं है कि राजा ने फरमान सुना दिया और सभी ने स्वीकर कर लिया है। किसानों ने वोट देकर सरकार को बनाया है। किसान आंदोलन में केवल सिद्धू ही नहीं वहां पर 60 किसान अपनी जान गवां चुके हैं लेकिन ये बेशर्म सरकार सुनने को तैयार नहीं है। जब सरकार से पूछा गया कि कितने किसान अब तक मर चुके हैं तो नेता कहते हैं कि हमें पता नहीं है। अगर एक किसी की अंगुली में चोट भी लग जाए तो प्रधानमंत्री ट्वीट कर करते हैं कि ये दुखद है लेकिन 60 किसानों की मौत दुखद नहीं है।

तिरंगा यात्रा किसानों के दिल्ली जाने का आगाज है
किसानों ने सभा के दौरान कहा कि ये तिरंगा यात्रा हमारे दिल्ली जाने का आगाज है। यहां से 9 जनवरी को बड़ी संख्या में किसान दिल्ली के लिए कूच करेंगे। 26 जनवरी की परेड में सारे किसान उनकी बेटियां ट्रैक्टर-ट्रालियां लेकर लालकिले की तरफ बढ़ेंगे और वहां पर परेड करेंगे।

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned