scriptHindu temple in Dhumeshwar, dabra Madhya Pradesh | Dhumeshwar Temple- ओरछा के नरेश ने एक ही रात में बनवाया था यह मंदिर | Patrika News

Dhumeshwar Temple- ओरछा के नरेश ने एक ही रात में बनवाया था यह मंदिर

Dhumeshwar mahadev- जिले में प्रसिद्ध है प्राचीन धूमेश्वर महादेव मंदिर..., नदी से ही निकला था शिवलिंग...।

डबरा

Updated: July 23, 2022 02:47:17 pm

भितरवार (डबरा)। भितरवार क्षेत्र में स्थित प्राचीन धूमेश्वर महादेव मंदिर कई ऐतिहासिक गाथाएं संजोए हुए हैं। नदी से पिंडी का उद्गम होना बताया गया है। इतिहासकारों का मानना है कि मंदिर में भगवान शिव की जो पिंडी है, वह नदी से निकली है, जिसकी गहराई आज तक कोई नहीं नाप पाया है। बताते है कि इस मंदिर का निर्माण एक ही रात में हुआ था। बाद में मंदिर का जीर्णोद्धार सन 1936 में ग्वालियर नरेश जीवाजी राव सिंधिया के कार्यकाल में किया गया। यहां की चमत्कारिक शिवलिंग के दर्शन मात्र से ही मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

dabra-2.png

डबरा से 27 किलोमीटर और भितरवार से करीब 12 किलोमीटर दूर शिव और पार्वती नदी के संगम स्थल पर बने धूमेश्वर महादेव मंदिर के बारे में बताया गया है कि इस मंदिर का निर्माण एक ही रात में किया गया। ओरछा नरेश वीर सिंह ने इस मंदिर का निर्माण एक ही रात में कराया था। प्राचीन एवं चमत्कारिक पिंडी का दर्शन मात्र करने से ही लोगों की मान्यता पूरी होती है। जिले का सबसे प्राचीन एवं ऐतिहासिक मंदिर है। मंदिर की नक्काशी को देख मंदिर के वास्तु कला में मुगल शासन काल की छाप भी देखने को मिलती है।

क्यों जाना जाता है धूमेश्वर के नाम से

धूमेश्वर मंदिर के चारों ओर कलकल करता झरना मंदिर को और मनमोहक बनाता है। लोग वहां पिकनिक मनाने के लिए पहुंचते है। इतिहासकारों के मुताबिक सिंध नदी का पानी काफी ऊपर से झरने के रूप में नीचे गिरता है, जिससे पानी के नीचे गिरने से धुआं सा उठता है। इसलिए इस मंदिर को धूमेश्वर महादेव मंदिर के नाम से जाना जाता है।

भोर की पहली किरण के साथ जल चढ़ा मिलता है

मंदिर के आगे का भाग मुगलकालीन शैली में नजर आता है। साथ ही मंदिर के जिस हिस्से में भगवान शिव की पिंडी निकली है उसके ठीक पीछे की दिशा से सूर्यउदय होता है और सूर्य की पहली किरण भी पिंडी पर पड़ती है। साथ ही शिवलिंग पर रोजाना ही सुबह के समय जल भी चढ़ा मिलता है।

सिंधिया राजवंश ने कराया था जीर्णोद्वार

मंदिर के महंत अनिरुद्ध महाराज बताते हैं कि यह मंदिर पहले नागवंशीय शासकों द्वारा बनाया गया था। यह मंदिर नरबलि के लिए प्रसिद्ध था। बताते हैं कि मुगल शासकों ने अपने शासनकाल में मंदिर को नष्ट कर दिया था। बाद में ओरछा नरेश वीर सिंह (Raja Veer Singh Bundela Of Orchha) ने एक ही रात में मंदिर का निर्माण कराया। मंदिर का जीर्णोद्धार सन 1936 में ग्वालियर नरेश जीवाजी राव सिंधिया के कार्यकाल में किया गया। श्रावण मास में मेला लगता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

श्रीनगर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, एक आतंकी को लगी गोली, जवान भी घायल38 साल बाद शहीद लांसनायक चंद्रशेखर का मिला शव, सियाचिन ग्लेशियर की बर्फ में दबकर हो गए थे शहीदराष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का देश के नाम संबोधन, कहा - '2047 तक हम अपने स्वाधीनता सेनानियों के सपनों को पूरी तरह साकार कर लेंगे'पंजाब में शुरु हुई सेहत क्रांति की शुरुआत, 75 'आम आदमी क्लीनिक' बन कर तैयार, देश के 75वें वर्षगांठ पर हो जाएंगे जनता को समर्पितMaharashtra: सीएम शिंदे की ‘मिनी’ टीम में हुआ विभागों का बंटवारा, फडणवीस को मिला गृह और वित्त, जानें किसे मिली क्या जिम्मेदारीलाखों खर्च कर गुजराती युवक ने तिरंगे के रंग में रंगी कार, PM मोदी व अमित शाह से मिलने की इच्छा लिए पहुंचा दिल्लीशेयर मार्केट के बिगबुल राकेश झुनझुनवाला की मौत ऐसे हुई, डॉक्टर ने बताई वजहBJP ने देश विभाजन पर वीडियो जारी कर जवाहर लाल नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस ने किया पलटवार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.