कार्रवाई के विरोध में खरीद प्रभारियों ने की हड़ताल

मामला 50 किलो से ज्यादा की तौल कर ज्यादा गेहूं लेने का

 

By: rishi jaiswal

Published: 05 May 2020, 09:04 AM IST

डबरा. एक दिन पहले क्षेत्र के तीन खरीदी केन्द्र प्रभारियों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया था। इनके द्वारा 50 किलो से ज्यादा की तौल कर किसानों से ज्यादा गेहूं लिए जाने के मामले में जांच उपरांत एसडीएम ने उनके खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया। सोमवार को खरीद प्रभारियों के खिलाफ की गई एफआईआर की कार्रवाई के विरोध में क्षेत्र के खरीद प्रभारियों ने खरीदी नहीं की और हड़ताल पर चले गए। इससे रात भर से आए किसानों को परेशान होना पड़ा।

महाकाल वेयर हाउस में स्थापित चारों खरीदी केन्द्र के कांटे बंद हो गए। खरीदी कार्य नहीं किए जाने के कारण क्षेत्र के कई किसान एसडीएम कार्यालय पहुंचे। इन लोगों ने एसडीएम राघवेन्द्र पांडे से शिकायत की। इस वेयर हाउस में करियावटी, सालवई, झाड़ौली और भगेह संस्था के खरीदी केन्द्र बनाए गए है। दोपहर 3 बजे के बाद खरीदी कार्य शुरू हुआ। इस दौरान सभी खरीद केन्द्रों पर किसान अपनी उपज बेचने के लिए परेशान होता दिखा। डबरा में 21 खरीद केन्द्र बनाए गए है इन सभी खरीद केन्द्र प्रभारियों ने एफआईआर की कार्रवाई का विरोध करते हुए खरीदी बंद कर दी। किसान लल्ला गुर्जर, सोनू गुर्जर, रामनरेश, बंटी शिंदे आदि ने बताया कि सुबह से आए हुए है और दोपहर तक तौल शुरू नहीं की है। दोपहर तक हर खरीदी केन्द्र में 100 से 150 ट्रैक्टर ट्रॉली खड़े रहे।
भितरवार अनुभाग के गोहिन्दा सहकारी समिति खरीद केन्द्र प्रभारी मदन तिवारी, बागवई खरीद केन्द्र प्रभारी वीरेन्द्र शर्मा ओैर चिटोली खरीदी केन्द्र प्रभारी दिनेश सिंह यह तीनों खरीद प्रभारी किसानों की उपज की ज्यादा तौल कर रहे थे। यह लोग निर्धारित 50 किलो की तौल के दौरान एक से डेढ़ किलों ज्यादा की तौल करते हुए पकड़े गए। जांच में सही पाए जाने पर इनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई।

रविवार को रात में तीन ट्रैक्टर ट्रॉली गेहूं की लेकर आया था। सुबह उनका नंबर लगना था लेकिन खरीदी कार्य बंद होने से वे काफी समय तक परेशान रहे। बाद में पता चला की खरीदी प्रभारी हड़ताल पर हैं जिस कारण दिनभर खरीदी कार्य बंद रहा। दिनभर उनका समय बर्बाद हो गया।
वीपी तिवारी, किसान करियावटी गांव

सुबह 5 बजे गेहूं की ट्रॉली लेकर आ गया था। एसएमएस नंबर आने पर उसका नंबर था लेकिन खरीदी प्रभारी ने खरीदी नहीं की। पता चलाया तो यह बात सामने आई कि तीन खरीद प्रभारियों पर एफआईआर की कार्रवाई हुई है जिसके विरोध में खरीदी बंद की गई है। सुबह से भूखे प्यासे थे।
रामजीत गुर्जर- किसान

लेबर का भुगतान नहीं होने की समस्या के कारण सभी खरीद केन्द्र प्रभारी कलेक्टर से मिलने ग्वालियर गए थे। इस कारण खरीदी कार्य बंद रहा। दोपहर 3 बजे ग्वालियर से आने और आश्वासन के बाद सभी खरीदी केन्दों का खरीदी कार्य शुरू हो गया।
सुरभि जैन, कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी डबरा

Show More
rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned