जनता का जनता के लिए मुकम्मल बंद

कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अपील को जनता का बेहतर प्रतिसाद मिला । पीएम नरेन्द्र मोदी ने रविवार को सुबह 7 से रात के 9 बजे तक जनता कर्फ्यू लगाने का आव्हान किया था। इस आव्हान को डबरा क्षेत्र का भरपूर समर्थन मिला।

By: rishi jaiswal

Published: 22 Mar 2020, 08:39 PM IST

डबरा. कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अपील को जनता का बेहतर प्रतिसाद मिला । पीएम नरेन्द्र मोदी ने रविवार को सुबह 7 से रात के 9 बजे तक जनता कर्फ्यू लगाने का आव्हान किया था। इस आव्हान को डबरा क्षेत्र का भरपूर समर्थन मिला। असर यह रहा कि बाजार पूरा बंद रहा और लोगों ने जनता कर्फ्यू का समर्थन किया।

शाम 5 बजने पर लोगों ने थाली बजाकर ड्यूटी दे रहे कर्मचारियों की हौंसला बढ़ाया और एकता का संदेश दिया। सुबह से ही पुलिस एवं प्रशासन का अमला मैदान में दिखाई दिया। सिंधिया चौराहा पर पुलिस बल तैनात था। हाइवे से आने वालें वाहनों की जांच की गई। बेवजह बाजार आने वालों को भी पुलिस लौटाया।
जनता कर्फ्यू को लेकर सुबह से ही पूरा बाजार बंद था। चाय के ठेले से लेकर सब्जी की दुकानें भी नहीं खुली। लोगों ने शनिवार को ही राशन, सब्जी सहित आवश्यक वस्तुओं की खरीदारी कर ली थी। दिनभर घर में रहने पर लोगों ने अपने अपने तरीके से टाइम पास किया।

कर्फ्यू के दौरान सामुदायिक भवन को कंट्रोल रूम बनाया गया था। शाम 5 बजते ही हर घर से थाली बजने की ध्वनि सुनाई देने लगी और इस दौरान करीब आधा घंटे तक लोग बाहर आए। डबरा में 24 मार्च तक लॉकडाउन रहेगा।

250 यात्रियों की नहीं हो पाई स्क्रीनिंग - सुबह करीब 250 लोग चित्रकूट से डबरा रेलवे स्टेशन पर उतरे। बंद के कारण इन्हें लोकपरिवहन के साधन नहीं मिल सके जिससे ये परेशान हुए। वहीं दूसरी ओर इनमें से किसी का भी मेडिकल चेकअप नहीं हुआ। यह लोग कब चित्रकूट गए थे और किस गांव के रहने वाले है इसकी जानकारी भी प्रशासन ने नहीं जुटाई।

ऐसे बिताया समय - कुछ बच्चों ने कैरम खेलकर, कुछ ने मोबाइल पर गेम खेलकर तो कुछ बच्चों ने टीवी पर मूवी देखी। बड़े लोगों ने मोहल्ले में एक जगह एकत्रित होकर ताश के पत्ते खेले। जबकि दूरी बनाने के लिए यह कदम उठाया गया था लेकिन कुछ बड़ों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। कुछ ने अपनी पुरानी यादें ताजा करने के लिए विवाह की फिल्म एवं एलबम देखी।


पेट्रोल पंप पर नहीं दिखी भीड़ - जनता कर्फ्यू की वजह से कोई भी घर के बाहर नहीं निकला। यही वजह रही की पेट्रोल पंप पर भी इक्का दुक्का ही लोग पहुंचे। दोपहर 12 बजे बाद अधिकांश पेट्रोल पंप बंद हो गए।

हाईवे पर भी नहीं हुई वाहनों की आवाजाही - ग्वालियर झांसी हाईवे पर हर घंटे वाहनों की रफ्तार बनी रहती थी। रविवार को जनता कर्फ्यू की वजह से हाईवे पर भी सन्नाटा ही पसरा रहा। ट्रांसपोर्टेशन बंद किए जाने से न तो यात्री बसें दिखाई दी और न ही भारी वाहन चले।

डबरा में मिला एक संदिग्ध - डबरा में सामुदायिक भवन में जनता कर्फ्यू के दौरान बनाए गए कंट्रोल रूम में एक युवक को स्वास्थ्य टीम ने कोरोना का संदिग्ध मानते हुए उसे ग्वालियर रैफर किया है। बीएमओ डॉ. एसके सोलंकी ने बताया कि यूरोप के लातिया शहर से आए इस युवक की जांच की तो उसका तापमान 99 डिग्री था जिस कारण उसे ग्वालियर भेजा है। यह युवक 17 मार्च को लौटा है। उसके परिवार में पांच सदस्य है उनकी भी जांच की जा रही है। वहीं दुबई से आए एक युवक की जांच नॉर्मल पाई गई।

भितरवार में भी मिला एक संदिग्ध, ग्वालियर रैफर किया

भितरवार में भी जनता कर्फ्यू को पूरा समर्थन मिला। घर में ही लोगों ने मोबाइल एवं टीवी के माध्यम से समय बिताया। दो दिन पूर्व मथुरा से आए वृृद्ध मदनसिंह संदिग्ध मिले। जिसे जांच टीम ने ग्वालियर रैफर कर दिया है। स्वास्थ्य महकमें की ओर से कोई वाहन नहीं पहुंचा तो गड़ाजर गांव के सचिव शैलेन्द्र गुर्जर उन्हें लेकर अस्पताल पहुंचे। भितरवार में मरीजों की जांच के लिए नॉन टच टर्मामीटर उपलब्ध नहीं हो पाया है। इस वजह से प्रामाणिक पुष्टि नहीं हो पा रही है। जिससे बिना उपकरण के जांच की जा रही है जिसमें प्रामणिक पुष्टि नहीं हो पा रही है।


मास्क नहीं उपलब्ध - भितरवार में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में मास्क नहीं है जिस कारण अधिकतर कर्मचारी बिना मास्क के ड्यूटी की। नगर में तहसीलदार कुलदीप दुबे और थाना प्रभारी केडी कुशवाह ने बाजार में घूमकर लोगों को कोरोना वायरस की जानकारी दी और बेवजह बाजार में घूम रहे लोगों से घर में रहने की अपील की। काली माता प्रागंण में कुछ युवक क्रिकेट मैच खेल रहे थे उन्हेंभी खेलने से मना किया और घर जाने के लिए कहा।

बैंगलुरू से आए युवकों की हुई जांच -
पिछोर में बैंगलुरु से आए दो युवको की जांच की गई। पहले यह दोनों युवक पिछोर स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचे थे। स्वास्थ्य केन्द्र में कोई चिकित्सक नहीं मिला तो वे नायब तहसीलदार आनंद गोस्वामी के साथ सिविल अस्पताल डबरा पहुंचे। सिविल अस्पताल में हुई जांच में ये दोनों नार्मल पाए गए।m

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned