अघोषित कटौती को लेकर घेरा बिजलीघर

ग्रामीण एंव नगरीय क्षेत्र में हो रही अघोषित बिजली कटौती, बीते कई माह से लो वोल्टेज की समस्या से जुझ रहे किसानों एवं कस्बेवासियों ने सोमवार को बिजलीघर का घेराव कर सहायक प्रबंधक से विद्युत समस्या के निराकरण की मांग की, निराकरण न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी।

By: rishi jaiswal

Updated: 14 Sep 2020, 11:29 PM IST

डबरा/पिछोर. ग्रामीण एंव नगरीय क्षेत्र में हो रही अघोषित बिजली कटौती, बीते कई माह से लो वोल्टेज की समस्या से जुझ रहे किसानों एवं कस्बेवासियों ने सोमवार को बिजलीघर का घेराव कर सहायक प्रबंधक से विद्युत समस्या के निराकरण की मांग की, निराकरण न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी।


सोमवार को पिछोर कस्बे एंव ग्रामीण क्षेत्र के उपभोक्ताओं द्वारा बिजली घर का घेराव कर बिजली सप्लाई सुचारू रूप से संचालित करने की मांग की। स्थानीय लोगों एंव कषकों ने बताया कि क्षेत्र में कम वोल्टेज और अघोषित कटौती से उपभोक्ता काफी परेशान है। वोल्टेज न आने से गांव में मोटरें नही चल पा रही है, वही कस्बे में विद्युत उपकरण नही चलते। उपभोक्ताओं के आक्रोश को देखते हुए उपकेन्द्र पर पदस्थ सहायक प्रबंधक बीपी विश्वकर्मा ने उपभोक्ताओं को अवगत कराया कि स्थानीय समस्या को लेकर वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत करा दिया है। तीन दिवस के अंदर बिजली संबंधित समस्या दूर कर दी जाएगी। इस दौरान राजेश पंडा, किशोरी शर्मा, पूर्व पार्षद भगवान सिंह जाटव, उपस्थित रहे।


भीम आर्मी भारत एकता मिशन ने बिजली समस्या पर सौंपा ज्ञापन
डबरा. शहर के वार्ड एक सिमरिया ताल में गहराए बिजली संकट को लेकर सोमवार को भीम आर्मी भारत एकता मिशन ने एसडीएम के नाम नायब तहसीलदार पूजा मावई को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन से पहले रैली निकाली गई। संगठन के ब्लॉक प्रभारी परवेन्द्र घोरपड़े के नेतृत्व में सौंपे गए ज्ञापन में बताया गया कि सिमरिया ताल में विगत 2 वर्षों से बिजली की समस्या बनी हुई है अटल ज्योति लाइन चालू है लेकिन इससे लाइनमैन द्वारा कई गांव की बिजली जोड़ दी गई, जिस कारण लोड बढऩेसे गांव में बिजली सप्लाई नहीं हो पा रही है । गांव वालों ने कई बार बिजली कंपनी में आवेदन दिया लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है और गांव वाले भीषण गर्मी में पानी के लिए परेशान हो रहे हैं । आटा चक्की नहीं चल पा रही है हमें आटा पिसाने डबरा जाना पड़ रहा है। ज्ञापन में बिजली समस्या का समाधान शीघ्र कराए जाने की मांग की गई।

rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned