लाइनमैन की मौत पर परिजन ने घेरा बिजलीघर

एसडीओपी समेत बिजली अफसर पहुंचे मौके पर, मांगों को लेकर दिया आश्वासन

छीमक. ग्राम पंचायत में बिजली का कार्य करने के दौरान बिजली कंपनी का लाइनमैन गंभीर रूप से घायल हो गया था। उसका ग्वालियर में इलाज चल रहा था इस दौरान शुक्रवार की सुबह उसकी मौत हो गई। इससे गुस्साए परिजन व ग्रामीणों ने सुबह साढ़े दस बजे छीमक बस स्टैंड स्थित बिजलीघर पहुंचकर प्रदर्शन करते हुए घेराव कर दिया। इसके साथ ही सभी फीडर बंद करा दिए। जानकारी मिलते ही एसडीओपी भितरवार शैलेन्द्र सिंह जादौन व बिजली कंपनी के सहायक प्रबंधक वीरेन्द्र धुर्वे मौके पर पहुंचे और मृतक के परिजनों को समझाया। उनकी मांगों को पूरा कराने का आश्वासन दिया तब तीन घंटे बाद घेराव समाप्त हुआ।


छीमक बिजलीघर के लाइनमैन रामगोपाल 16 जुलाई को आबादी लाइन का परिमट लेकर मुख्य बाजार में टूटी केबल को ट्रांसफार्मर से जोड़ रहा था। इसी दौरान लाइन चालू होने के कारण उसे करंट लगा और वह नीचे गिर गया, जिससे गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे परिजन ग्वालियर इलाज के लिए ले गए। जहां उसका इलाज चल रहा था। शुक्रवार को इलाज के दौरान सुबह उसकी मौत हो गई। इससे गुस्साए लाइनमैन की परिजन व क्षेत्रीय लोगों ने छीमक बस स्टैंड स्थित बिजलीघर पहुंचकर प्रदर्शन करते हुए घेराव कर दिया। इसके साथ ही प्रदर्शन करने वाले लोगों ने बिजलीघर से सभी तीन फीडर बंद करा दिए। परिजनों ने आरोप लगाया कि रामगोपाल लाइनमैन द्वारा परमिट लिया गया था, परंतु फीडर पर रहने वाले ऑपरेटर द्वारा लाइन को चालू कर दिया गया, जिससे रामगोपाल को करंट लग गया और उसकी मौत हो गई। घेराव कर रहे परिजन चीनोर बिजली कंपनी के सहायक प्रबंधक को मौके पर बुलवाने की मांग कर रहे थे, जिसके बाद फीडर पर रहने वाले ऑपरेटर धीरज वर्मा ने चीनोर सहायक प्रबंधक वीरेन्द्र धुर्वे को फोन पर जानकारी दी। उसके बाद सहायक प्रबंधक ने प्रदर्शन की सूचना एसडीओपी भितरवार शैलेन्द्र सिंह जादौन को दी। इसके बाद एसडीओपी व सहायक प्रबंधक मौके पर पहुंचे। एसडीओपी ने घेराव कर रहे परिजनों से बात की तो उन्होंने मृतक के एक परिजन को बिजली कंपनी में नौकरी, पत्नी को पेंशन व चार लाख रुपए की बीमा राशि की मांग की इस पर एसडीओपी ने उन्हें समझाया और कहा कि सहायक प्रबंधक द्वारा आपकी मांगों को पूरा कराने का प्रयास किया जाएगा। नियम के विरुद्ध कोई भी काम नहीं किया जाएगा। एसडीओपी द्वारा बताया गया कि अभी कोरोना महामारी का संकट चल रहा है, ऐसे में प्रशासन भी आपकी बराबर मदद करेगा और जो नियम के अनुसार आपकी मांगें आती हैं उनको पूरा किया जाएगा। इस पर सहायक प्रबंधक ने बताया कि मेरी वरिष्ठ अधिकारियों से बात हो गई है आपकी जो मांगें हैं उनको पूरा करने का प्रयास किया जाएगा। जो मांगें नियम के तहत आएगी वे पूरी की जाएंगी। करीब तीन घंटे बाद घेराव समाप्त हुआ।

Show More
महेंद्र राजोरे Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned