बाहर से आने वालों की जांच कर उन्हें क्वारंटाइन किया गया

पिछले दो दिनों में करीब सात लोग महाराष्ट्र समेत अन्य स्थानों से लौटकर आए जिनमें से पांच का डबरा में ब्लड सैंपल लेने के साथ ही तीन को क्वारंटाइन किया गया है। इन तीन लोगों में एक दंपती भी शामिल है।

By: rishi jaiswal

Published: 23 Apr 2020, 08:20 AM IST

चीनोर. मजदूरी और रोजगार के लिए दूसरे प्रदेशों में गए लोगों का लौटना जारी है। अपने गांव लौटने पर इनकी जांच कराई जा रही है। प्रशासन और स्वास्थ्य की टीम इनकी जानकारी मिलने पर तुरंत एक्शन मोड में आ जाती है। इन लोगों की स्क्रीनिंग करने के साथ ही होम क्वारंटाइन भी किया जा रहा है।

पिछले दो दिनों में करीब सात लोग महाराष्ट्र समेत अन्य स्थानों से लौटकर आए जिनमें से पांच का डबरा में ब्लड सैंपल लेने के साथ ही तीन को क्वारंटाइन किया गया है। इन तीन लोगों में एक दंपती भी शामिल है।

प्रशासन की ओर से पहले ही शासकीय अनुसूचित जाति जूनियर छात्रावास को अधिगृहित कर क्वारंटाइन सेंटर बना दिया गया था। इसमें बाहर से आने वाले लोगों को क्वारंटाइन में रखा जा रहा है।

मंगलवार को शिवपुरी के ग्राम ररूआ के जीतू परिहार, कुलदीप परिहार और होशंगाबाद के ग्राम बेरनी से बलराम परिहार, ग्राम घरसौदी से रवि कुशवाह ये लोग महराष्ट्र के सांगली से आये थे। जबकि बुधवार की सुबह सोनसिंह जाटव ग्राम ईटमा चक इंदौर से आया था। इन पांचों ने अपने-अपने गांव के सरपंच, सचिव एवं संबंधित थाने में फोन कर गांव आने की सूचना दे दी थी।

इस पर प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग ने इनकी सभी की स्क्रीनिंग कराने के बाद छात्रावास में बनाए गए क्वारंटाइन सेंटर पर भेज दिया। बुधवार को दो बार में पांचो को 108 एंबुलेंस से डबरा ब्लड सैंपल के लिए भेजा गया। जांच आने तक 3 दिन तक इन्हें क्वारंटाइन में ही रखा जाएगा।

बुधवार की दोपहर ग्राम पंचायत चीनोर की आदिवासी दफाई में रहने वाले मेहरबान व उसकी पत्नी आशा कोल्हापुर महाराष्ट्र से लौटकर आए। इस बात की सूचना पर स्वास्थ्य टीम ने पहुंचकर दोनों की स्क्रीनिंग की और इन्हें भी क्वारंटाइन सेंटर पर भेजा गया।

Corona virus
rishi jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned