ग्रामीणों पर मडरा रहा रैबीज का खतरा

यहां वहा पड़े मृत मवेशियों के शव

By: pushpendra tiwari

Published: 07 Jun 2018, 12:10 PM IST

दमोह/ त्ंोंदूखेड़ा. तेजगढ़ व पतलौनी ग्राम में रैबीज से ग्रसित कुछ केस सामने आए हैं, साथ ही यहां पर 30 से 35 पालतू मवेशियों की मौत पागल कुत्तों के काटने से हुई है। पिछले तीन दिनों के भीतर गांव में तीन दर्जन मवेशियों की मौत हो चुकी है, लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई है। जानकारों के अनुसार इस गांव के ग्रामीणों पर रैबीज का खतरा मडरा रहा है। खतरे को भांप कर पशु चिकित्सक ने मामले की जानकारी उच्चाधिकारियों तक भेजी है।


सूचना पत्र को नहीं लिया गया


पतलौनी गांव में रैबीज का खतरा बढ़ गया है, यहां पर मवेशियों की रैबीज से ग्रसित होने की वजह से मौतें हो रहीं हैं, इस संबंध में कार्रवाई की उम्मीद लेकर पशु चिकित्सा विभाग का चपरासी एसडीएम कार्यालय में पत्र देने पहुंचा, लेकिन यहां मौजूद लिपिक द्वारा पत्र नहीं लिया गया। पत्र वाहक द्वारा इस जानकारी से अपने अधिकारी को अवगत कराया गया। सूचना प्रशासनिक अधिकारियों तक पहुंचना जरूरी थी, इसलिए पत्रवाहक मंगलवार की जनसुनवाई में खड़ा हो गया और जनसुनवाई में मौजूद सीईओ मनीष बागरी को पत्र सौंपा व मामले से अवगत कराया।


ग्राम पतलौनी में रैबीज का खतरा अब इंसानों पर बढऩे लगा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार रैबीज से पीडि़त मवेशियों की मौत के बाद उनके शव जहां तहां पड़े हुए हैं, मवेशी मालिकों द्वारा शवों को ठिकाने नहीं लगाया जा रहा है। मामले में सीईओ मनीष बागरी द्वारा सरपंच को सूचना भेजी गई है कि गांव के बाहर मृत मवेशियों के शवों को गड्ढों में दफन कराया जाए। लेकिन इस कार्य को करने से लोगों में रैबीज का भय व्याप्त है। सीईओ बागरी ने बताया है कि मेरे द्वारा गांव में जाकर लोगों को एकत्र कर समझाइश दी गई है, सरपंच उद्वेत प्रसाद अहिरवार से भी बात हुई है, सरपंच ने कहा है कि शाम तक गांव के बाहर 70 से 80 गड्ढे खुदवा दूंगा। मामलें में पंचायत सचिव नीतू अठ्या ग्राम पंचायत पतलौनी ने बताया कि एसडीएम व तहसीलदार भी पंचायत में मौका स्थिति का जायजा लेने आ रहे हैं।


रैबीज से सुरक्षा को लेकर पशु चिकित्सक सुमित पटेल का कहना है कि रैबीज से बचाव के लिए पर्याप्त मात्रा में इंजेक्शन उपलब्ध हो चुके हैं, इस कार्य को गंभीरता से लिया जा रहा है।

pushpendra tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned