बांदकपुर में हो रहा एनाउंस दूरी बनाकर करें दर्शन

कुंडलपुर आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या घटी

By: Rajesh Kumar Pandey

Published: 19 Mar 2020, 08:08 AM IST

दमोह. कोरोना वायरस के एलर्ट का असर जिला सत्र न्यायालय से लेकर देश के प्रसिद्ध तीर्थ स्थल बांदकपुर व कुंडलपुर में भी दिखा। हालांकि यह तीनों स्थल पूरी तरह बंद नहीं किए गए हैं, लेकिन सर्तकता एडवाइजरी जारी करते हुए परिसर में कम संख्या में उपस्थिति के प्रयास 31 मार्च तक कराए जा रहे हैं।
जबलपुर हाइकोर्ट द्वारा कोरोना वायरस कोविड 19 वैश्विक महामारी के चलते गंभीर प्रकृति के मामलों को छोड़कर सभी मामलो की सुनवाई 31 मार्च तक के लिए टाल दी गई है। इस निर्देश के चलते जमानत संबंधी मामलों व अत्यंत आवश्यक प्रकृति के स्टे या अंत्य आवश्यक प्रकृति के मामलों की ही सुनवाई होगी। शेष सभी मामलों की सुनवाई 31 मार्च तक टाल दी गई है। गंभीर प्रकृति की सुनवाई के दौरान भी जिला सत्र न्यायालय में विशेष सर्तकता बरतने के आदेश जारी किए गए हैं। जिसमें जब तक न्यायालय द्वारा किसी अधिवक्ता, पक्षकार, साक्षी को निर्देश नहीं किया जाता है, तब तक कोई भी न्यायालय कक्ष में प्रवेश नहीं करेगा। पक्षकार अपने मामले की जानकारी अपने अधिवक्ता या ई-कोर्ट के माध्यम से ले सकते हैं। अत्यंत आवश्यक होने पर ही न्यायालय कक्ष में प्रवेश के निर्देश दिए गए हैं।
बांदकपुर में एनांउस से कर रहे जागरुक
कोरोना वायरस के चलते प्रसिद्ध जागेश्वरनाथ बांदकपुर धाम में बुधवार की सुबह से एनांउस किया जा रहा था। जिसमें हिदायद दी जा रही थी कि गर्भ गृह में समूह के रूप में प्रवेश न करें, काफी दूर बनाकर एक-एक यात्री को दर्शन कराए जा रहे थे। मुंह नाक कपड़े से ढंकने की हिदायद के साथ अपरिचित व्यक्तियों से संपर्क न करने की बात कही जा रही है। मंदिर ट्रस्ट कमेटी अध्यक्ष पं. रामकृपाल पाठक ने कहा कि कोरोना का कहर रोकने के लिए जितने उपाय किए जा सकते हैं, वह बांदकपुर ट्रस्ट कमेटी द्वारा उपयोग किए जा रहे हैं। खासतौर पर बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं से संपर्क करने में सर्तकर्ता बरतने की हिदायद देने के लिए लगातार एनाउंस कराया जा रहा है।
कुंडलपुर में कम हुई संख्या
कोरोना वायरस का कहर का असर कुंडलपुर में दिख रहा है, यहां सबसे ज्यादा तीर्थ यात्री राजस्थान से आते हैं, लेकिन वर्तमान में इनकी संख्या काफी कम हो गई है। कुंडलपुर ट्रस्ट कमेटी के प्रचार मंत्री सुनील वेजेटिरियन ने बताया कि वर्तमान में कुंडलपुर 30-40 तीर्थ यात्री पहुंच रहे हैं। जिन्हें सर्तकता बरतने की हिदायद दी जा रही है, जिससे वह स्वयं जागरुकता बरतते हुए दर्शन कर रहे हैं। कुंडलपुर कमेटी द्वारा सफाई का भी ख्याल रखा जा रहा है।

विदेश से आने वाले युवाओं की निगरानी
हटा में स्वास्थ्य विभाग की टीम विदेश से लौटने वालों की निगरानी कर रही है। एक ऐसा ही और मामला प्रकाश में आया कि गंगा झिरिया के एक पटेल परिवार की बेटी इंडोनेशिया किसी काम से गई थी। वापस भारत 8 मार्च को आई है। उनकी मां ने बताया कि बेटी घर पर नहीं है। 22 जनवरी को बेटी जबलपुर गई थी, वहां उसकी शादी हुई है। जबलपुर से 26 जनवरी को मुंबई गई और 3 मार्च को फ्लाइट से इंडोनेशिया गई और 8 मार्च को वापिस लौट आई है। वह अभी मुंबई मे ही है। यह गलती इसलिए हुई है कि उसके पासपोर्ट पर स्थायी पता चंडीजी वार्ड हटा अंकित है। इसी तरह हटा बजरिया के गर्ग परिवार में एक युवा कोरोना के संक्रमण से पीडि़त था, जिसका पूर्ण इलाज करने के बाद उसे 14 दिन तक हटा में अपने घर में ही एक कमरे में रहने की हिदायद दी गई है। बुधवार को दोनों युवाओं के घर सीबीएमओ पीडी करगैया, राजेंद्र सिंह, बीपीएम सत्यप्रकाश, प्रमोद तंतुवाय, सविता पाठक व बुद्धन तंतुवाय मौजूद रहे।
स्कूल में बांटे शिक्षकों को मास्क
जेपीबी स्कूल में पदस्थ सभी शिक्षकों के पहुंचने पर पहले उनके हाथ सेनटाइजर से धुलवाए गए फिर सभी को मास्क वितरित किए गए। इन सभी के लिए 31 मार्च तक मास्क लगाकर स्कूल आने व हाथ सेनटाइजर से धुलने की सलाह दी गई। एनसीसी ऑफीसर शरद मिश्रा ने सेटेराइज करने का तरीका बताया और नि:शुल्क मास्क वितरण किए। इस दौरान प्राचार्य आरके खरे, व्याख्याता डीके जैन, आरके उपाध्याय, ममता खरे, एके जैन, बीएल रोहित, विपित तिवारी, रीता तिवारी, अनीता चौहान, मनमीत कौर, प्रीति पांडेय, कमला नेमा, संगीता जैन, अंजना जैन, रीना चौरसिया, मिथलेश पटेल की मौजूदगी रही।

Rajesh Kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned