प्रतिबंध के लगे रहे बैनर, निकलते रहे चार पहिया वाहन

त्यौहारों पर भीड़ नियंत्रित करने कुछ ही रास्तों पर हुआ नियमों का पालन

 

By: Rajesh Kumar Pandey

Published: 21 Aug 2021, 10:00 PM IST

दमोह. रक्षाबंधन व कजुलियां पर्व घंटाघर के 5 रास्तों पर केंद्रित दमोह के बाजार में यातायात का दवाब कम करने के लिए चार पहिया वाहनों को प्रतिबंधित किए जाने नाकेबंदी करते हुए बैनर लगाए गए थे, लेकिन सुबह से शाम तक चार पहिया वाहन के प्रतिबंध के बैनर लगे रहे और वाहन निकलते रहे। जिससे जाम की स्थिति बनती रही।
कोविड संक्रमण व भीड़ को नियंत्रित करने के लिए यातायात व्यवस्था में बदलाव किया गया था। जिसके तहत शनिवार व रविवार को बाजार क्षेत्र से चार पहिया वाहनों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाया गया था। डायवर्ट मार्ग निर्धारित करते हुए पार्किंग भी बनाई गई थी। लेकिन सुबह से शाम तक की स्थिति में कई मार्गों पर यह व्यवस्था सुचारू नहीं दिखाई दी। कारों को प्रवेश दिया जाता रहा और बाजार क्षेत्र से चार पहिया वाहन निकलते रहे।
रक्षा बंधन के बाजार के लिए अस्पताल तिराहा से घंटाघर, प्राइवेट बस स्टैंड से एवरेस्ट लॉज होते हुए घंटाघर, धगट चौराहा से उमा मिस्त्री तलैया होते हुए घंटाघर, मोहन टाकीज से बकौली मंदिर होते हुए घंटाघर, डॉ. दुआ अस्पताल से एवरेस्ट होते हुए घंटाघर, मांगज स्कूल तिराहा से घंटाघर तक मार्ग का मार्ग चार पहिया वाहनों के लिए प्रतिबंधित किया गया था।
यहां की गई थी पार्किंग व्यवस्था
यातायात को सुगम बनाने के लिए अस्पताल तिराहा के पास मानस भवन परिसर व पुलिस अस्पताल, मोहन टाकीज के पास दीवानजी की तलैया के किनारे, प्राईवेट व सरकारी बस स्टैंड व मांगज स्कूल परिसर में पार्किंग व्यवस्था की गई थी।
ये बनाए गए थे वैकल्पिक मार्ग
चार पहिया वाहनों के लिए आवाजाही करने वैकल्पिक मार्ग बनाए गए थे। जिनमें धरमपुरा से सीधे कीर्ति स्तंभ, तहसील ग्राउंड, स्टेशन चौराहा, राय तिराहा, पलंदी चौराहा होते हुए बाहर आ जा सकते थे। मारूताल से सीधे किल्लाई नाका होते हुए तहसील ग्राउंड, तीन गुल्ली पहुंचकर सीधे कीर्ति स्तंभ, तहसील ग्राउंड, स्टेशन चौराहा, राय तिराहा, पलंदी चौराहा होते हुए बाहर आना जाना निर्धारित किया गया था। सागरनाका से तीन गुल्ली होते हुए बस स्टैंड से कीर्ति स्तंभ तहसील ग्राउंड पहुंच सकेंगे।
राखी बाजार फुटपाथ पर ही लगा
राखी बाजार के लिए नगर पालिका टाउन हाल का गोल बाजार नियत किया गया था, लेकिन हमेशा की तरह राखी की दुकानें घंटाघर से धगट चौराहा, व वकौली चौक लाइन में मनिहार और सराफा लाइन तक ही सड़कों पर ही लगी रहीं। दुकानदारों बाहर दुकानें लगाए जाने के कारण गोलबाजार का नियत बाजार खाली रहा।

 
Show More
Rajesh Kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned