विधायक रामबाई की 10वीं कक्षा में आई सप्लीमेंट्री, परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिये देना होगा दोबारा पेपर

साइंस में फेल हुईं विधायक रामबाई।

By: Faiz

Published: 31 Jan 2021, 09:08 PM IST

दमोह/ अपने बेबाक बयानों से हमेशा चर्चा में बने रहने वाली बसपा विधायक रामबाई एक बार फिर सुर्खियाें में आ गई हैं। इस बार चर्चा उनके बयान को लेकर नहीं है, बल्कि उनकी परीक्षा से जुड़ा है। दरअसल, विधायक रामबाई ने इस बार राज्य ओपन से 10वीं की परीक्षा दी थी, जिसके एक विषय में वो फेल हो गई हैं। सभी विषयों में तो वो उत्तीर्ण रहीं, लेकिन विज्ञान में उनकी सप्लीमेंट्री आ गई है। ऐसी स्थिति में परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिये उन्हें अब विज्ञान विषय का पेपर दोबारा देना होगा। हालांकि, वो हमेशा कहती रही हैं कि, पढ़ाई के लिए उनकी प्रेरणा का श्रेय उनकी बेटी को जाता है।

 

पढ़ें ये खास खबर- रेलवे की बड़ी सौगात : पेसेंजर ट्रेनों के फैर में किया विस्तार, जानिये नया शेड्यूल


30 जनवरी को घोषित हुआ है रिजल्ट

आपको बता दें कि, रामबाई सिंह पटेल दमोह जिले की पथरिया विधानसभा सीट से साल 2018 में विधायक चुनी गईं थीं। उन्होंने पिछले दिनों राज्य ओपन बोर्ड से पथरिया के जेपीबी स्कूल से 10वीं की परीक्षा दी थी। इसी का रिजल्ट 30 जनवरी को घोषित हुआ है। रामबाई 10वीं कक्षा के अन्य विषयों में तो उत्तीर्ण रहीं, लेकिन विज्ञान विषय में उत्तीर्ण होने से वो एक नंबर से पीछे रह गईं। रामबाई के मुताबिक, वो आठवीं पास हैं, लेकिन विधायक बनने के बाद आगे पढ़ना चाहती हैं, इसलिए उन्होंने एडमिशन लेने का फैसला किया।

 

पढ़ें ये खास खबर- हिस्ट्रीशीटर के घर पर चला बुलडोजर, अवैध रूप से कब्जा कर बनाई गई थी बिल्डिंग


बेटी ने दिया हौसला

विधायक रामबाई के मुताबिक, उनकी बेटी हमेशा उनका हौसला बढ़ाती रही है। यही वजह उनके आगे की पढ़ाई के लिये प्रेरित करती है। इससे पहले उन्होंने कहा भी था कि, उनकी बेटी ही उनकी शिक्षक है। 14 से 29 दिसंबर तक चले राज्य ओपन बोर्ड द्वारा परीक्षा में वो शामिल हुईं थीं। विधायक रामबाई अपने राजकीय दायित्वों में रहते हुए रोजाना दो से तीन घंटे पढ़ाई भी करती रहीं। तैयारी करने के बाद ही पेपर दिये, लेकिन विधायक होने के नाते लोगों से मिलना-जुलना और अन्य काम भी जरूरी हैं, जो पढ़ाई को थोड़ा जटिल बनाते रहे। रामबाई के मुताबिक, भले ही इस बार सफलता पूरी तरह हाथ नहीं लगी है, लेकिन, वो आगे पढ़ाई जारी रखेंगी। उनका कहना है कि 5 नंबर का ग्रेस होता है, वो सिर्फ 1 नंबर से ही फेल हुई हैं। अगर उन्हें ग्रेस नहीं मिलेगी, तो सप्लीमेंट्री पेपर देकर एक बार फिर परीक्षा उत्तीर्ण करने का प्रयास करेंगी।

 

अवैध हथियारों की फैक्ट्री का भांडाफोड़ - video

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned