जान की करें परवाह, 21 दिन तक मिलता रहेगा  किराना

हटा में भीड़ का दवाब करने किराना व्यापारियों की बैठक कर डोर-टू-डोर की व्यवस्था

दमोह. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 25 मार्च से किए गए 21 दिन के लॉक डाउन के पहले दिन प्रशासन द्वारा तय समय पर दी गई ढील के दौरान हड़बड़ी का माहौल और सामग्री स्टॉक करने की जद्दोजहद नजर आई। निर्धारित समय के बाद भी लोग दुकानों पर अड़े दिखे तो पुलिस को सड़क पर डंडा ठोकने विवश होना पड़ा है।
कलेक्टर तरुण राठी द्वारा पहले भी कहा गया है कि धारा 144 आपकी जान बचाने के लिए लगाई गई है, लेकिन पहले दिन 12 से 3 बजे तक पूरे बाजार क्षेत्र में माहौल अफरा-तफरी और भीड़ भरा नजर आया। इसी भीड़ और आपसी संपर्क को रोकने के लिए लॉक डाउन किया जा रहा है, लेकिन लोगों के दिलो-दिमाग में 21 दिन का बंद झूल रहा था, जिससे वह अपनी जान जोखिम में भी डालते नजर आए।
21 दिन तक रोज मिलता रहेगा किराना
दमोह शहर के व्यापारिक संगठनों के साथ अन्य किराना व्यापारियों से चर्चा के दौरान यह बात सामने आई है कि लोग जैसे रोजमर्रा के दिनों में आवश्यकता अनुसार किराना खरीदते रहे हैं, यदि यही स्थिति रखेंगे तो 21 दिन तक मौजूदा स्टॉक में कोई कमी नहीं आएगी। थोक व फुटकर में भरपूर स्टॉक है।
हड़बड़ी में घटते-बढ़ते नजर आए दाम
पत्रिका ने सुबह सब्जी बाजार के हालातों का जायजा लिया तो सुबह 8 बजे से 9 बजे के बीच टमाटर के दाम 40 रुपए किलो थे, सुबह 11 बजे तक 20 रुपए हो गए और दोपहर 3 बजते ही 10 रुपए किलो टमाटर की बोली लगाई जा रही थी। जिससे यह खुलासा हो रहा था कि लोगों की हड़बड़ाहट का भी कुछ सब्जी दुकानदार फायदा उठा रहे थे, इसलिए लोगों को अलर्ट होना होगा, तभी इस तरह की घटनाएं रुक सकती हैं। फलों के दामों में इजाफा देखा जा रहा है, लेकिन यह वृद्धि प्रत्येक नवरात्र के अवसर पर देखी जाती है, जिससे कोरोना लॉक डाउन से फिलहाल अभी जोड़ा नहीं जा सकता है, 10 से 15 रुपए की तेजी फलों में नजर आ रही है।
3 बजते ही पुलिस ने दिखाई सख्ती
लॉक डाउन में किराना के लिए 12 से दोपहर 3 बजे तक का समय निर्धारित किया गया है, लेकिन लोग इसके बाद भी बाजार में भीड़ बनाए दिख रहे थे, जिस पर पुलिस को सख्ती दिखाने के लिए विवश होना पड़ा। इस स्थिति से बचने के लिए लोग बगैर भीड़-भाड़ के निर्धारित समय में 12 बजे के बाद घर से निकले और दोपहर 3 बजे के पहले अपने घर के अंदर हो जाएं तो उन्हें पुलिस की सख्ती नहीं झेलनी पड़ेगी।
तीन माह का राशन वितरण शुरू
दमोह जिले में गरीबों के लिए राशन उपलब्ध करा दिया है। बुधवार से जिले की राशन दुकानों पर वितरण भी शुरू हो गया है, लेकिन यहां भी लोगों में जागरुकता की कमी देखी गई, राशन लेने की हड़बड़ी के कारण लोग संपर्क में दिखे। जिला प्रशासन ने लोगों के लिए मार्च से मई तक का खाद्यान्न वितरण शुरू कर दिया है, जिससे गरीबों को होने वाले खाद्यान्न की समस्या भी हल कर ली गई है। कलेक्टर ने राशन दुकानों पर चावल की गुणवत्ता की जांच के बाद ही वितरण के निर्देश दिए हैं। जिसका पालन कराते हुए मॉनीटरिंग भी करने के निर्देश हैं। इसके अलावा यदि खाद्यान्न वितरण में किसी प्रकार की लापरवाही या शिकायत है तो इसके लिए कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। जिसका मोबाइल व वॉटसएप नंबर 8770548994 है जिस पर तत्काल राशन उपभोक्ता अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। इसके अलावा 60 साल से अधिक उपभोक्ताओं की अलग लाइन लगाने व लाइन में 3 मीटर का फासला रखने के लिए निर्देशित किया गया है, जिस पर उपभोक्ताओं को ही अमल करना होगा।
डोर-टू-डोर किराना, दवा व सब्जी पहुंचाने की पहल
हटा. लॉक डाउन के दौरान दी जा रही ढील में बुधवार को अचानक बाजार में भीड़ बढऩे पर प्रशासन ने नोटिस में लिया। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी थी। जिस पर हटा एसडीएम ने किराना, दवा व सब्जी व्यापारियों की आवश्यक बैठक बुलाई गई, जिसमें उक्त तीनों वस्तुएं घर-घर पहुंचाने की सहमति बना ली गई है। उपकाशी के नाम से प्रसिद्ध हटा की एक अलग ही तासीर और नजीर है, यहां लोगों की भीड़ सड़कों पर कम करने के लिए जो कदम उठाए गए हैं, वह पूरे दमोह जिले के लिए नजीर बन सकते हैं।
दोपहर 3 बजे लॉक डाउन कराने के बाद हटा एसडीएम राकेश मरकाम ने तत्काल ही नगर के सभी थोक व फुटकर किराना, दवा व सब्जी व्यापारियों की एक आवश्यक बैठक बुलाई। व्यापारियों से मौजूदा स्टॉक व उपलब्धता पर चर्चा की गई। इसके बाद किराना व्यवसायियों के लिए डोर-टू-डोर किराना उपलब्ध कराने की व्यवस्था के लिए तैयार किया गया है। जिसमें सभी किराना व्यापारी तैयार हो गए। साथ ही यह डोर-टू-डोर बगैर किसी अतिरिक्त मुनाफा के उपलब्ध कराने पर सभी दुकानदार तैयार हो गए हैं। साथ ही किराना दुकानदार के वाहन क्रमांक व उनके एक-एक कर्मचारी के लिए अनुमति पत्र तैयार कराने का निर्णय लिया गया। एसडीएम ने दुकानदारों को सख्त हिदायद दी है कि तेल, शक्कर सहित अन्य सामान की कालाबाजारी न करें, इसकी शिकायत मिलने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ दवा व्यवसायी भी तैयार घर पर ही सुविधा उपलब्ध कराने के लिए तैयार हो गए हैं। जिसमें मरीज के परिजन वॉटसएप पर दुकानदार को पर्चा भेजेंगे, वहां से दुकानदार द्वारा संबंधित के घर दवाएं उपलब्ध करा दी जाएंगी। हटा प्रशासन ने बाजार में भीड़ बढऩे के आखिरी कारण सब्जी को भी डोर-टू-डोर पहुंचाने की प्लानिंग तैयार की है। जिस पर सब्जी दुकानदार भी तैयार हो गए हैं। बैठक में टीआइ विजय मिश्रा, उपनिरीक्षक अभिषेक चौबे, किराना व्यापारी संघ अध्यक्ष मनोहर चौबे, रिंकू जैन, संतु जैन, अज्जू हसन, बंटी सुहाने, बिज्जू सुहाने, चंद्रभान पटेल सहित अनेक व्यापारी मौजूद रहे।

Rajesh Kumar Pandey Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned