याचिका की सुनवाई पर रखा विजली कंपनी ने अपना पक्ष

याचिका की सुनवाई पर रखा विजली कंपनी ने अपना पक्ष
Central School High Tension line case Electric company says to court

Samved Jain | Updated: 06 Oct 2019, 04:40:47 PM (IST) Damoh, Damoh, Madhya Pradesh, India

पत्रिका की खबर को नजीर बनाकर दायर की थी याचिका,विद्युत कंपनी ने रखा अपना पक्ष

दमोह. स्थानीय सेंट्रल स्कूल से निकली हाइटेंशन लाइन से पढ़ाई करने वाले 1400 बच्चों की जीवन खतरे में है। जिसे देखते हुए पत्रिका ने 27 अगस्त को खबर प्रकाशन किया था। खबर के बाद 30 अगस्त को न्यायालय में अखबार को नजीर बनाते हुए शहर के जागरुक लोगों ने याचिका दायर की थी। जिसमें कलेक्टर, सेंट्रल स्कूल के प्रिसिपल, विद्युत मंडल के कार्यपालनयंत्री व जिला शिक्षाधिकारी को नोटिस जारी कर १४ सितंबर की तिथि तय की थी। उसके बाद उन्हें ५ अक्टूबर का समय दिया गया था। जिसके बाद अन्य अधिकारियों ने भले ही अगली तिथि जवाब पेश करने के लिए ले ली हो, लेकिन बिजली कंपनी की ओर से अपना पक्ष रखा गया।


स्कूल प्रबंधन जमा करे 89030 रूपए 18 हेज के साथ, तो हटाई जाएगी स्कूल से विधुत लाइन -
न्यायालय में पेश होने के बाद सेन्ट्रल स्कूल से निकली विधुत लाइन को हटाने के लिए परिवादी दीपक श्रीवास्तव अधिवक्ता द्वारा प्रस्तुत प्रकरण में शनिवार को बिजली कंपनी ने अपना पक्ष पेश किया। जिसमें उन्होंने अपने जबाब दावे में कहा कि उनकी विद्युत लाइन 35 वर्ष पूर्व से वहां से निकली है। स्कूल बाद में बना था। स्कूल के निर्माण के समय आपत्ति आनी थी, एवं वर्तमान में यदि स्कूल प्रशासन विधुत लाइन हटाने में होने वाले खर्च 899030 रुपए 18 हेज के साथ जमा करे तो विधुत लाइन हटा दी जाएगी। इसके अलावा उन्होंने लिखा है कि अभी सुरक्षा की दृष्टि से एक अतिरिक्त पोल लगा दिया गया है। परिवादी की और से पैरवी अजयदीप मिश्रा व संदीप खरे ने की। उन्होंने बताया कि अभी स्कूल प्रवंधन, जिला शिक्षा अधिकारी और जि़ला प्रशासन का जबाब न्यायालय में पेश नहीं हो सका है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned