नगर परिषद की ट्रैक्टर-ट्रॉली नदी में गिरी, 2 की मौत

हिंडोरिया नगर परिषद की ट्रैक्टर ट्राल घाट पिपरिया के पास पुल की रेलिं तोड़ते हुए व्यारमा नदी में जा गिरी

By: Rajesh Kumar Pandey

Published: 03 Nov 2017, 01:38 PM IST

दमोह. दमोह-कटनी स्टेट हाईवे पर जिला मुख्यालय से करीब 30 किलोमीटर दूर घाट पिपरिया के पुल की रेलिंग को तोड़ते हुए एक तेज रफ्तार ट्राली नीचे व्यारमा नदी में गिर गई। करीब 40 फुट ऊंचे पुल से नीचे नदी में जहां पर ट्रैक्टर ट्राली गिरी वहां पर पानी के बजाय पत्थरों का पठार था। जिससे ट्रैक्टर ट्राली के पत्थरों से टकराने के साथ ही उसमें सवार दो लोगों की मौके पर ही मौत हो गई।
हिंडोरिया नगर पंचायत की ट्रैक्टर-ट्राली के रात करीब 11.00 बजे हुए हादसे की वजह घाट पिपरिया पुल पर टै्रक्टर की तेज रफ्तार होना तथा क्रासिंग के दौरान चालक के स्टेरिंग पर कंट्रोल नहीं रख पाना बताया जा रहा है। जिससे तेज रफ्तार ट्रैक्टर रात के अंधेरे में पुल की रेलिंग को तोड़ता हुआ धड़ाम से नदी में गिर गया। घटना की सूचना स्थानीय लोगों द्वारा पुलिस को दिए जाने के बाद मौके पर पहुंचे हंड्रेड डायल के कर्मियों ने ग्रामीणों के साथ नदी में नीचे उतर कर अंधेरे में हालात का जायजा लिया। देर रात ट्रैक्टर के चालक तथा सहायक को नदी से बाहर निकाला गया। तब तक दोनों की मौत हो चुकी थी। मृतकों की पहचान हिंडोरिया निवासी मोहन सिंह लोधी व चतुर पटेल के तौर पर की गई है। मोहन लोधी हिंडोरिया नगर परिषद में ट्रैक्टर का ड्राइवर था। वही चतुर पटेल उसके साथ में सहायक के तौर पर ट्रैक्टर पर चलता था। यह दोनों देर रात नगर पंचायत पालिका की ट्रैक्टर ट्राली को लेकर कुम्हारी रोड पर किसके कहने पर क्यों गए थे। इसको लेकर तरह-तरह की चर्चाओं के बीच फिलहाल मामले का खुलासा नहीं हो सका है। कुछ लोग वन क्षेत्र में अवैध खनन परिवहन से तथा तथा कुछ लोग मवेशियों से जुड़ा मामला बताकर गड़बड़ी की आशंका को स्पष्ट कर रहे हैं। नगर पंचायत हिंडोरिया की ट्रैक्टर-ट्राली फिलहाल घाट पिपरिया पुल के नीचे नदी के पठा पर पलटी हुई पड़ी है। वहीं मृतकों के शव को पोस्टमार्टम के उपरांत परिजनों को सौंप दिया गया है। पुलिस मामले की जांच में जुटकर यह पता लगाने की कोशिश कर रही है किसके निर्देश पर ट्रैक्टर-ट्राली को नगर परिषद क्षेत्र की सीमा के बाहर वन क्षेत्र में भेजा गया था। तथा किन हालात में ट्रैक्टर ट्राली के पलटने से 2 लोगों को काल कलवित होना पड़ा।
कुछ ग्रामीणों ने स्पष्ट आरोप लगाए हैं कि हिंडोरिया नगर पंचायत क्षेत्र से आवारा मवेशियों को पकड़कर घाट पिपरिया के जंगलों में कसाईयों के सुपुर्द किया जाता था और वहां से अवैध सागौन लकड़ी का परिवहन किया जाता था। हिंडोरिया थाना प्रभारी पीडी मिंज का कहना है कि उनकी विवेचना जारी है और सभी बिंदुओं पर जांच कर रहे हैं।

Rajesh Kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned