Amritm jalam वित्तमंत्री बने भागीरथ दो दिन में बेलाताल घाट साफ

श्रमदानियों ने बढ़ाए हाथ तो नपा ने लगा दी ताकत

By: Rajesh Kumar Pandey

Published: 16 May 2018, 12:06 PM IST

दमोह. बेलाताल का घाट जिसका अस्तित्व समाप्त हो चुका था। जिसका काया कल्प करने पत्रिका अमृतं जलम आओ भागीरथ बने अभियान के तहत संकल्प लिया गया था। रविवार को वित्तमंत्री जयंत कुमार मलैया द्वारा व समाजसेवियों की मौजूदगी में श्रमदान कर घाट सफाई का शुभारंभ किया गया था। दूसरे दिन सोमवार को भी वित्तमंत्री श्रमदान करने पहुंचे और जनसहयोग व नपा की ताकत से घाट साफ हो गया। जिससे महज दो दिन में बेलाताल टापू का घाट साफ हो गया। दूसरे दिन करीब 100 से अधिक श्रमदानियों व युवाओं ने सहयोग किया।
पत्रिका अमृतं जलम के भागीरथ बने वित्तमंत्री जयंत कुमार मलैया सोमवार को 6.30 बजे बेलाताल घाट पर पहुंच गए थे। उनके साथ समाजसेवियों, व्यवसायियों के साथ धर्मगुरु भी जुटे। जिन्होंने श्रमदान करते हुए सफाई अभियान में सहयोग किया। श्रमदानियों की मेहनत देखते हुए नपा ने भी अपनी ताकत लगा दी और दोपहर 1 बजे तक चले सफाई अभियान में जिस घाट के पास लोगों की जाने की इच्छा भी नहीं होती थी, वह पूरी तरह साफ स्वच्छ हो गया।
देखते ही देखते भर गए तीन टिपर व दो ट्रॉली
वित्तमंत्री के भागीरथी प्रयास में सहयोग कर रहे श्रमदानियों द्वारा लगातार सहयोग किए जाने से करीब एक घंटे में ही नपा के तीन टिपर वाहन व दो ट्रॉली भर गईं थीं। इसके बाद करीब 10 ट्रॉली कचरा बेलाताल के बाहर रखा गया था, जिसे डोजर द्वारा उठवाया जाएगा।
पूजन सामग्री का निकला कचरा
अमृतं जलम में बेलाताल के जिस घाट को साफ करने वित्तमंत्री, समाजसेवियों व नपा ने अथक परिश्रम कर पसीना बहाया था। उस घाट पर कचरा के रूप में जलकुंभी के अलावा अधिकांश पूजन सामग्री की बोरियां, शादी कार्ड, भगवान की फोटो, नारियल निकले थे। इसके बाद जैसे ही घाट साफ हुआ था, वैसे ही दो पॉलीथिन व नारियल लोग साफ घाट देखकर डाल गए थे।
धार्मिक जागरुकता की आवश्यकता
श्रमदान अभियान से जुड़े डॉ. केदार शर्मा ने कहा कि घाटों को स्वच्छता बनाए रखने के लिए धार्मिक जागरुकता की आवश्यकता है। लोग पॉलीथिन व बोरियों में कचरा तालाब में फैंक जाते हैं। जो सफाई अभियान के दौरान सीधे निकलकर कचरा डंप सेंटर जाता है। हवन, पूजन सामग्री को विसर्जित करने के लिए लोगों को स्वयं जागरुक होना होगा। इसके लिए तालाबों में पॉलीथिन को अलग कर पूजन सामग्री डाली जाए तो मछलियों को भोजन मिल सकेगा, हवन तालाब के पानी में घुलकर नीचे बैठ जाएगा। जागरुकता के अभाव में पॉलीथिन व बोरियों में फैंकी जाने वाली सामग्री उसी में बंद रह जाती है और वह बाद में कचरा डंप सेंटर चली जाती है, इस तरह इस सामग्री का अनादर ही होता है।
इन्होंने किया श्रमदान
नपा अध्यक्ष मालती असाटी, केएन कॉलेज प्राचार्य केपी अहिरवार, केएन कॉलेज जन भागीदारी अध्यक्ष नर्मदा सिंह एकता, ट्रांसपोर्टर संजय यादव, धर्मगुरु धीरेंद्र धगट बाबा, पीआरओ यासिक अहमद कुरैशी, व्यवसायी नीरज जैन फट्टी, गुरुजी संघ अध्यक्ष राजेश मिश्रा, सीएमओ कपिल खरे, पुलिस स्टॉफ से सर्वेश पांडेय, एचएस मिश्रा, कमल श्रीवास, नपा की टीम से प्रेम पारोचे सहित अन्य कर्मचारियों के अलावा युवाओं की टीम ने स्वेच्छिक श्रमदान कर घाट सफाई में महत्वपूर्ण योगदान दिया।
अगले रविवार नए घाट का होगा कायाकल्प
शहर के समाजसेवियों के साथ लोगों को जागरुक करने के लिए चलाए जा रहे अमृतं जलम अभियान का आगाज अब अगले रविवार को नए घाट के साथ होगा। जिसमें शहर के विभिन्न सामाजिक संगठनों, युवाओं की टीम व जनप्रतिनिधियों के साथ फिर नए जोश के साथ सफाई शुरु की जाएगी।

Rajesh Kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned