कलेक्टर व सांसद बंगला के सामने से निकले रहे भारी वाहन

बदहाल यातायात व्यवस्था

By: Sanket Shrivastava

Published: 03 Jan 2020, 11:16 AM IST

दमोह. जटाशंकर मंदिर से सटकर कलेक्टर, सांसद व न्यायाधीशों के बंगले बने हुए हैं। जिस मार्ग पर बंगले हैं उसी मार्ग से चौबीसों घंटे भारी वाहन धमाचौकड़ी मचा रहे है। जबकि धार्मिक स्थल व समीप में सर्किट हाऊस होने की वजह से इस मार्ग पर लोगों की खासी आवाजाही बनी रहती है। खासतौर पर पैदल चलने वाले इस मार्ग पर अधिक आते जाते हैं। लेकिन इस मार्ग से बसें, ट्रक निकलने की वजह से सड़क हादसे की स्थिति निर्मित रहती है। ऐसा नहीं है कि खतरा सिर्फ अधिकारियों के बंगले के सामने ही हो। बल्कि इस प्वाइंट से सटकर ही जटाशंकर बीड़ी कॉलोनी शुरु हो जाती है। करीब एक किलोमीटर तक सड़क के दोनों तरफ काफी घनी बस्ती है। दोनों तरफ सड़क से सटकर बने मकानों की वजह से यह रोड काफी सकरी है। इसके बाद भी यहां से नियम विरुद्ध भारी वाहन आ जा रहे हैं।
बायपास फिर भी हो रहा वाहनों का संचालन
वर्षों पहले रिंग रोड के लिए इस मार्ग को बनाया गया था। जब मार्ग बना था उस समय मय शहर में बायपास नहीं था। लेकिन कटनी बांदकपुर को जाने वाले इस मार्ग पर वाहनों की आवाजाही अब नहीं होना चाहिए। क्योंकि भारी वाहनों को निकलने के लिए बायपास है। लेकिन पांच किलोमीटर के चक्कर का खर्च बचाने के लिए वाहन इस मार्ग से निकल रहे हैं। बस स्टैंड से बांदकपुर, पटेरा, कटनी कुंडलपुर के लिए जितनी भी बसें रवाना होतीं हैं वह इसी मार्ग से होकर निकल रहीं हैं। इसके अलावा इन गंतव्यों के लिए जाने वाले भारी ट्रक भी इसी मार्ग का उपयोग कर रहे हैं।
सरकारी कार्यालय भी इसी मार्ग पर
बस स्टैंड से रवाना बसें जबलपुर नाका पहुंचती है। यहां से सीधे बायपास की ओर जाने की बजाय वह जटाशंकर की ओर मुड़ जाती हैं। जबलपुर नाका से आगे बढ़ते ही बसें पहले एसपी ऑफिस को पार करती हुईं, पीएचई, जलसंसाधन विभाग कार्यालय, डीएफओ बंगला होते हुए बेलाताल तिराहा पर पहुंचती है। यहां से टर्न लेकर कलेक्टर सांसद बंगले के ठीक सामने से बीड़ी कॉलोनी होकर कटनी बांदकपुर मार्ग तक पहुंचती हैं।

Sanket Shrivastava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned