फूड पॉइजनिंग के शिकार 2 बच्चे अब भी अस्पताल में भर्ती, शेष को छुट्टी

फूड पॉइजनिंग के शिकार 2 बच्चे अब भी अस्पताल में भर्ती, शेष को छुट्टी

Samved Jain | Updated: 06 Oct 2019, 04:34:16 PM (IST) Damoh, Damoh, Madhya Pradesh, India

अभिभावकों के साथ पहुंची अपने घर,दो छात्रा व रसोइया को कराया भर्ती

दमोह. जिले के तेजगढ़ थानांतर्गत टौरी गांव की कस्तूरबा छात्रावास की 32 छात्राओं को इलाज के लिए भर्ती कराए जाने के बाद दो छात्राओं को छोड़कर शेष को अस्पताल से छुट्टि दे दी गई। इस बीच शुक्रवार रात व शनिवार सुबह दो और छात्राओं को भर्ती कराया गया। इसके अलावा छात्रावास की रसोइया को भी जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
गुरुवार को छात्रावास से उल्टी दस्त होने पर २९ छात्राओं को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसके बाद तीन और छात्राओं को दूसरे दिन भर्ती कराया। बाद में दो छात्राओं सहित रसोइया को भी भर्ती कराया गया। इनमें से अब केवल चार छात्राएं व रसोइया ही इलाजरत है। शेष को छुट्टि दे दी गई।


पदस्थ वार्डन दीप्ती चौबे ने बताया कि जिला अस्पताल में इलाज के बाद डॉक्टर ने 2 सभी छात्राओं को छुट्टि दे दी थी। जिन्हें निजी वाहन करके उनके घर तक परिजनों व छात्राओं को ग्राम इमलिया, शीशपुरपटी व डबा गांव भिजवा दिया है। इसके अलावा दो अन्य छात्राओं व रसोइया को बाद में भर्ती किया गया है।


गुरुवार को १२५ में २९ छात्राओं को उल्टी दस्त के बाद जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जिसमें खाद्य पदार्थों व पानी की सेंपिलंग की गई थी। लेकिन अभी प्रयोगशाला से उसकी रिपोर्ट नहीं आने के कारण उल्टी-दस्त होने के कारणों का पता नहीं चल सका है।


कलेक्टर ने कहा कमरों को तोड़ दो ताला, बनाओ पंचनामा-
पदस्थ वार्डन दीप्ती चौबे का कहना है कि उन्हें पूर्व में पदस्थ रही वार्डन सीता स्वामी तिवारी ने पूरा चार्ज नहीं दिया था। अभी भी कमरे में जहां पर सामग्री रखी है उसमें ताला पड़ा है। जिसको लेकर कलेक्टर तरुण कुमार राठी ने निर्देश दिए हैं कि वह छात्रावास पहुंचकर वहां गांव के चार प्रतिष्ठित लोगों व एक सरकारी कर्मचारी के सामने कमरे का ताला तुडवाकर पंचनामा बनाकर कलेक्ट्रेट में जमा करें। जिससे छात्राओं को मिलने वाली सुविधा से वह वंचित न रह सकें। इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। इस मामले में वार्डन दीप्ती का कहना है कि वह सोमवार को जाकर ताला तोडऩे की कार्रवाई पंच व मीडिया के समक्ष करेंगी। जिसकी जानकारी कलेक्टर को भेजेंगी।


इलाज जारी -
गीता और चंदा नामक छात्राएं अभी भी जिला अस्पताल में इलाजरत हैं। शेष अन्य दो छात्राओं में शुक्रवार रात तथा शनिवार को भर्ती कराए जाने के बाद उनका भी इलाज जारी है। इसके अलावा छात्रावास में काम करने वाली रसोइया सीता यादव को भी शनिवार को भर्ती कराया गया है। जिसका इलाज भी जारी है। हालांकि सभी की स्थिति सामान्य है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned