scriptFurniture was being made from illegal teak, seized from two houses | अवैध सागौन से बन रहा था फर्नीचर, दो मकानों से लाखों की जब्ती | Patrika News

अवैध सागौन से बन रहा था फर्नीचर, दो मकानों से लाखों की जब्ती

देर रात तक चलेगी कार्रवाई

दमोह

Published: August 14, 2021 10:24:15 pm

तेंदूखेड़ा. स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर वन विभाग के हाथ बड़ी सफलता लगी है। जिसमें शनिवार की रात वन अमले ने एक मकान पर दबिश दी, जहां से जब्ती के बाद दूसरा बंद मकान खोला तो उसमें भी सागौन का अवैध भंडार मिला था। बताया जा रहा है कि एक ही परिवार के 10 मकान हैं, जो वन विभाग की जांच के दायरे में आ गए हैं। दूसरे मकान को सील कर दिया गया है, जब्ती की कार्रवाई रविवार को की जाएगी।
नगर के वार्ड क्रमांक 09 भटरिया में एक आलीशान घर से वनविभाग ने बड़ी मात्रा में लाखों की कीमत का सागौन व फर्नीचर सहित सागौन के पटिया, छोटे बत्ता सहित फर्नीचर बनाने के काम में आने वाले औजार व मशीनें जब्त की हैं। जब्ती के समय वनविभाग के साथ पुलिस विभाग का सहयोग रहा उक्त कार्यवाही समाचार लिखे जाने तक जारी हैं। आलीशान घर किसके नाम पर हैं व कीमती लकड़ी सागौन की सामग्री किसके द्वारा बनवाई व एकत्र की जा रही है। जिसका खुलासा जांच पूर्ण होने के उपरांत होगा। बताया जा रहा है कि एक परिवार के एक साथ 10 घर बने हुए हैं। जिनमें से जहां फर्नीचर बन रहा था, वहां जब्ती की कार्रवाई के बाद दूसरा बंद मकान खुलवाया तो वन विभाग की आंखें खुली रह गई यहां भारी मात्रा में सागौन पाया गया। जिस पर रात होने के कारण मकान सील कर दिया गया है।
तीन दिन का पैसा मारा तो खुली पोल
ेेतेंदूखेड़ा नगर में चोरी छिपे लंबे समय से अवैध सागौन से फर्नीचर का निर्माण कार्य चल रहा था। जिसकी भनक वन विभाग को नहीं थी। बताया जा रहा है कि एक कारीगर से काम कराया गया और उसका तीन दिन का पैसा नहीं दिया गया। अपनी मेहनत का पैसा मार देने पर उसने सबक सिखाने के लिए मुखबिरी कर दी और सागौन के अवैध भंडार का पता बता दिया। कारीगर द्वारा बताए गए पते पर जब वन विभाग के अधिकारी पहुंचे तो उन्हें सागौन का अवैध भंडार मिल गया। जिसके मूल्य का आंकलन करने में दो दिन का वक्त लग जाएगा। नजरी तौर पर लाखों रुपए कीमत का सागौन पाया गया है।
बगैर लाइसेंस के चल रहा था कारोबार
उपवन मंडल अधिकारी डॉ. रेखा पटैल, वनपरिक्षेत्र अधिकारी शीलसिंधु श्रीवास्तव व वन अमला ने भारी तादाद में सागौन की लकड़ी को दंग रह गए। अधिकारी द्वारा उक्त फर्नीचर निर्माण के लाइसेंस के कागजात मांगे तो पता चला कि 2015 से फर्नीचर बनाने का लाइसेंस ही नहीं हैं। बिना लाइसेंस के भारी मात्रा में सागौन पाया गया साथ ही सागौन की गीली लकड़ी दो दिन पहले तक की जब्त की गई। अवैध सागौन की जानकारी एसडीओ वनविभाग द्वारा पुलिस को दी गई। जिसके बाद पुलिस भी मौके पर पहुंची। सागौन बहुतायत में होने के कारण गणना होने में आधी रात हो सकती कार्यवाही के दौरान डिप्टी रेंजर सतीश पाराशर, खूब सिंह, अभिषेक मोदी, अनिल तिवारी, अशोक दुबे, प्रधान आरक्षक फागूलाल व आरक्षक मौजूद रहे।
Furniture was being made from illegal teak, seized from two houses
Furniture was being made from illegal teak, seized from two houses
 

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.