बीच बाजार में पति-पत्नी की फाइट, लोगों ने देखे लाइव नजारे

Rajesh Kumar Pandey

Publish: Jan, 14 2018 02:03:35 (IST)

Damoh, Madhya Pradesh, India
बीच बाजार में पति-पत्नी की फाइट, लोगों ने देखे लाइव नजारे

बस स्टैंड चौराहा के समीप का मामला, भीड़ ने किया बीच बचाव

दमोह. शहर के बस स्टैंड चौराहा के समीप किल्लाई चौराहा मार्ग पर शनिवार की शाम करीब ०५.३० बजे एक पति ने अपनी पत्नी के साथ जोरदार मारपीट सरेराह कर दी। पति गुस्से में इस कदर आक्रोशित था कि वह यह भी नहीं देख रहा था कि उसकी इस करतूत की वजह से भीड़ जमा हो चुकी है। आखिरकार लोगों को पति पत्नी के इस झगड़े में बीचबचाव करना पड़ा तब जाकर पत्नी की सुरक्षा हो सकी। इस दौरान सड़क पर भीड़ अधिक जमा हो गई थी और कुछ देर तक यातायात भी प्रभावित रहा। मामले में मिली जानकारी के अनुसार एक गांव से पति पत्नी बाजार में खरीदी करने दमोह आए थे। दमोह पहुंचने पर पति किसी कार्य से चला गया और पत्नी बाजार करने के लिए चली गई। कुछ देर बाद पति ने पत्नी के मोबाइल से उसकी लोकेशन पता करने के लिए फोन लगाया, लेकिन उसकी पत्नी किसी कारणवश फोन रिसीव नहीं कर पाई और इधर युवक का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया। युवक अपनी पत्नी का इंतजार करने के लिए बस स्टैंड चौराहा के समीप खड़ा हो गया जहां पर युवक ने पत्नी को छोड़ा था। इंतजार के करीब एक घंटे बाद उसकी पत्नी वहां आ गई जिसे देखकर युवक ने सीधा गाली गलौज करते हुए मारपीट शुरु कर दी। युवक का कहना था कि उसकी पत्नी फोन नहीं उठा रही थी जिसकी वजह से वह उसे पूरे शहर में तलाश करता रहा। वहीं दोनों के बीच पहले एक दूसरे से तीखी बातचीत हुई इसी बीच युवक ने मारपीट शुरु कर दी। मारपीट होता देख मौके पर मौजूद लोगों ने हस्ताक्षेप किया और बीच बचाव कर दोनों को समझाइश दी। युवक पुन: अपनी दो पहिया वाहन पर पत्नी को बैठाकर गांव के लिए रवाना हो गया।

 

बीच बाजार में पति-पत्नी की फाइट, लोगों ने देखे लाइव नजारे

कलेक्टर की उदारता देख भर आईं वृद्ध महिला की आंखे
दमोह. जिस समय कलेक्टर अपने चैंबर से निकलकर किसी कार्य के लिए कलेक्ट्रेट से जा रहे थे, तभी एक वृद्ध महिला अपनी समस्या लेकर उनके पास पहुंच गई। वृद्धा ने कलेक्टर श्रीनिवास शर्मा से कहा कि मेरा राशन कार्ड नहीं बन रहा है और इस कारण मुझे खाद्यान नहीं दिया जाता है। कलेक्टर शर्मा ने वृद्धा के हाथ मे जो राशन कार्ड तैयार किए जाने के कागज थे उन्हें लिया और कागजों की खामियों को पूरा कर दिया। कलेक्टर ने वृद्ध राधारानी निवासी दतला के कागजों में जानकारी भरने के लिए समीप खड़ी एक कार पर कागज रखे और वृद्धा से कहा कि जाओ माई अब तुम्हें कोई दिक्कत नहीं होगी। इस मामले में बताया गया है कि वृद्धा के राशन कार्ड में दतला की जगह मुडऱ हरदुआ लिख गया था जिसकी वजह से उसे राशन नहीं मिल रहा था। कलेक्टर शर्मा ने स्थान का नाम बदला और अपने हस्ताक्षर कर वृद्धा को राशन कार्ड के कागज दे दिए। कलेक्टर की उदारता भरीं बात सुनकर पीडि़त वृद्ध महिला राधारानी की आंखे भर आईं, दरअसल वृद्ध महिला पिछले कई दिनों से कलेक्टर के अधीनस्थ अधिकारियों के चक्कर काट रही थी, लेकिन उसकी समस्या का समाधान नहीं हो पाया था। यहां विदित हो कि शनिवार को माह का दूसरा शनिवार होने की वजह से शासकीय अवकाश था, लेकिन वृद्धा को इस बात की जानकारी नहीं थी, इसे वृद्धा के प्रयासों का नतीजा ही माना जा सकता है कि जिस समय वृद्धा आई तभी कलेक्टर जमीनी पट्टा वितरण कर कलेक्ट्रेट से बाहर जा रहे थे और वृद्धा की कलेक्टर से मुलाकात हो गई।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned